देश

राम मंदिर उद्घाटन के बाद हो सकती है ‘गोधरा’ जैसी घटना: उद्धव ठाकरे

शिव सेना नेता उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन के बाद लोगों की वापसी यात्रा के दौरान संभावित ‘गोधरा जैसी’ घटना की चेतावनी दी है। भाजपा उनकी टिप्पणी की निंदा करती है।

नई दिल्ली: शिवसेना (UBT) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने रविवार को दावा किया कि देश भर से उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर उद्घाटन पर बड़ी संख्या में लोगों के जुटने की उम्मीद की जा रही है, इस दौरान “गोधरा जैसी” घटना (Godhra like incident may happen) हो सकती है।

27 फरवरी, 2002 को गुजरात के गोधरा स्टेशन पर साबरमती एक्सप्रेस से अयोध्या से लौट रहे ‘कारसेवकों’ पर हमला किया गया और उनके ट्रेन कोच में आग लगा दी गई, जिससे कई लोगों की मौत हो गई। पूरे राज्य में बड़े पैमाने पर दंगे भड़क उठे।

जलगांव में ठाकरे ने कहा, “ऐसी संभावना है कि सरकार राम मंदिर उद्घाटन के लिए बसों और ट्रकों में बड़ी संख्या में लोगों को आमंत्रित कर सकती है और उनकी वापसी यात्रा पर गोधरा जैसी घटना हो सकती है।”

राम मंदिर का उद्घाटन लोकसभा चुनाव से कुछ महीने पहले जनवरी 2024 में होने की संभावना है।

इस बीच, उद्धव ठाकरे की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए, भाजपा सांसद रविशंकर प्रसाद ने कहा, “…मैं बस इतना कहना चाहूंगा कि यह पूरा गठबंधन, जो कि पीएम मोदी के खिलाफ है, वोट के लिए किसी भी सीमा तक जा सकता है…मैं चाहूंगा भगवान राम से प्रार्थना है कि उन्हें कुछ सद्बुद्धि दें। यह एक शर्मनाक और अशोभनीय टिप्पणी है। हम इसकी निंदा करते हैं।”

शिव सेना (यूबीटी) नेता उद्धव ठाकरे के इस बयान पर कि उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन के बाद “गोधरा जैसी” घटना हो सकती है, प्रसाद ने दावा किया कि कुछ लोग सत्ता के लालच में अपनी विचारधारा भूल गए हैं।

प्रसाद ने कहा, “मुझे नहीं पता कि बालासाहेब (शिवसेना के दिवंगत संस्थापक और उद्धव ठाकरे के पिता) ने आज क्या सोचा होगा और सत्ता के लालच में उद्धव जी आज क्या कर रहे हैं। इतनी सारी बातें होने पर राहुल जी और उद्धव जी ने एक शब्द भी नहीं कहा सनातन धर्म के बारे में।”

भाजपा अक्सर 2019 के विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस और राकांपा के साथ हाथ मिलाकर मुख्यमंत्री बनने के लिए बाल ठाकरे के आदर्शों को त्यागने के लिए ठाकरे पर निशाना साधती रही है।

पिछले साल जून में शिवसेना के विभाजन के बाद हमले और तेज हो गए हैं और दोनों गुट खुद को पार्टी संस्थापक की विरासत का असली उत्तराधिकारी बताने लगे हैं।

27 फरवरी, 2002 को साबरमती एक्सप्रेस से अयोध्या से लौट रहे ‘कारसेवकों’ पर गुजरात के गोधरा स्टेशन पर हमला किया गया और उनके ट्रेन कोच में आग लगा दी गई, जिससे कई लोगों की मौत हो गई और राज्य भर में बड़े पैमाने पर दंगे भड़क उठे।

(एजेंसी इनपुट के साथ)