तालिबान मुख्यधारा में शामिल हों, तभी भारत समर्थन करेंः अफगान एम्बेसडर

Afghan

नई दिल्लीः अफगानिस्तान की स्थिति को ‘कठिन, विकट और समस्याग्रस्त’ बताते हुए, भारत में देश के राजदूत फरीद ममुंडजे ने कहा है कि दिल्ली को तालिबान को बताना चाहिए कि अगर वे ‘क्षेत्रीय आतंकवादी समूहों’ से संबंध तोड़ते हैं और हिंसा छोड़ देते हैं और मुख्यधारा से जुड़ते हैं, तभी हम उनका सर्मथन करेंगे। अगर तालिबान इन शर्तों को मानता है तो वह अफगानिस्तान को राजनीतिक और कूटनीतिक रूप से समर्थन और सहायता करना जारी रखेगा।

मामुंडजे ने कहा कि अगर सुरक्षा की स्थिति और बिगड़ती है तो भारतीय विकास परियोजनाएं जैसे- सड़कें, स्कूल, बांध आदि खतरे में हैं। अमेरिकी सैनिकों के बाहर निकलने से तालिबान ने अफगानिस्तान में बड़े पैमाने पर कब्जा कर लिया है, खासकर उत्तरी प्रांतों में जो कभी उनके नियंत्रण में नहीं थे।

भारत ने अफगानिस्तान के सभी 34 प्रांतों में परियोजनाओं के लिए लगभग 3 बिलियन अमरीकी डालर की प्रतिबद्धता जताई है।

भारत ने कहा, ‘‘तालिबान अफगान हैं। आज या कल, वे हमसे बात करेंगे। वे अफगान लोगों और अफगान सरकार से बात करेंगे। और हम चाहते हैं कि तालिबान हिंसा को छोड़ दे, अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी समूहों के साथ संबंध तोड़ दे, और शांतिपूर्ण तरीके से देश की मुख्यधारा की राजनीति का हिस्सा बन जाए।’’

उन्होंने कहा, ‘‘तालिबान के साथ भारत का जुड़ाव कुछ ऐसा है जिसकी हम इस स्तर पर आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं कर सकते हैं। लेकिन निश्चित रूप से, भारत के कड़े संदेश निश्चित रूप से क्षेत्रीय आतंकवादी समूहों के साथ संबंध तोड़ने का संदेश देने में मदद करेंगे। अगर तालिबान फिर से मुख्यधारा के समाज का हिस्सा बन जाता है तो भारत अफगानिस्तान को समर्थन देना जारी रखेगा। भारत राजनीतिक, कूटनीतिक रूप से शिक्षा के क्षेत्र में अफगानिस्तान की सहायता करना जारी रखेगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि तालिबान के साथ वे बहुत आगे बढ़ेंगे। तालिबान को एहसास होगा कि अगर उन्हें हिंसा को छोड़ देना चाहिए, अगर वे मुख्यधारा के समाज का हिस्सा बन जाते हैं, तो भारत अफगानिस्तान के साथ साझेदारी करना जारी रखेगा। तो वे कुछ संदेश हैं जो भारत सरकार तालिबान को भेज सकती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘उत्तर के उस शहर मजहर-ए-शरीफ पर, जहां भारत का एक और वाणिज्य दूतावास है, उन्होंने कहा कि वर्तमान में आकलन से पता चलता है कि सुरक्षा ‘इस स्तर पर एक बड़ी चुनौती नहीं है।’ लेकिन निश्चित रूप से, अगर स्थिति बिगड़ने लगती है, तो हम एक ऐसे चरण में पहुंच सकते हैं जहां हमें यह जगह खाली करनी होगी।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या अफगानिस्तान ने भारत से सैन्य सहायता मांगी है, उन्होंने कहा कि सरकार ने अभी तक भारत से किसी भी सैन्य सहायता के लिए आधिकारिक तौर पर अनुरोध नहीं किया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में उन्हें अमेरिका और नाटो बलों से सहायता मिली है, और वे ‘पर्याप्त’ हैं और अफगान राष्ट्रीय सुरक्षा बलों के पास ‘उन संसाधनों और संपत्तियों का उपयोग करने की क्षमता है।’

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Add comment


Security code
Refresh