जानें क्या हुआ कि ‘मिसेज श्रीलंका’ पुष्पिका डिसिल्वा से छीना गया ताज

Sri Lanka

नई दिल्लीः ‘मिसेज श्रीलंका’ सौंदर्य प्रतियोगिता के दौरान उस समय हलचल मच गई, जब 2019 की विनर ने सरेआम इस स्पर्धा की विजेता के सिर से ताज छीनकर रनरअप को पहना दिया। जबरदस्ती सिर से ताज उतारे जाने के दौरान विजेता पुष्पिका डिसिल्वा के सिर में चोटें आईं जिसके बाद उन्हें अस्पताल जाना पड़ा। रविवार को श्रीलंका के राष्ट्रीय टीवी पर एक समारोह में ब्यूटी क्वीन पुष्पिका डिसिल्वा ने ‘मिसेज श्रीलंका’ खिताब जीता। इस लाइव समारोह के दौरान मंच पर हुई इस अप्रत्याशित घटना ने वहां मौजूद सभी लोगों को हैरान कर दिया। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है।

वीडिया में प्रतियोगिता की विजेता पुष्पिका डिसिल्वा के सिर से ताज निकालते हुए 2019 की विनर दिखाई दे रहीं हैं। इस संबंध मे 2019 की विजेता ने यह घोषणा करते हुए कहा कि उसे ये ताज नहीं दिया जा सकता क्योंकि वह तलाकशुदा है। हालांकि बाद में यह पुरस्कार पुष्पिका डिसिल्वा को लौटा दिया गया है, जिसमें आयोजकों ने पुष्टि की है कि वह तलाकशुदा नहीं है। लेकिन इतने बड़े मंच पर जो कुछ भी हुआ वह निंदनीय है और इससे पुष्पिका डिसिल्वा को गहरा धक्का लगा है।

रविवार रात कोलंबो के एक थिएटर में मिसेज श्रीलंका के फाइनल में पुष्पिका डिसिल्वा ने 2021 का खिताब जीता। लेकिन 2019 की विजेता कैरोलिन जूरी ने श्रीमती डीसिल्वा से उनका ताज छीन लिया। इसके पीछे उन्होंने कारण बताया कि पुष्पिका डिसिल्वा तलाकशुदा औरत हैं, जो इस प्रतियोगिता के नियम के खिलाफ है।

श्रीमती जुरी ने दर्शकों से कहा, ‘‘ऐसा नियम है जो पहले से शादीशुदा और तलाकशुदा महिलाओं को रोकता है, इसलिए मैं ताज को स्थानांतरित करने के लिए कदम उठा रही हूं।’’

उन्होंने उपविजेता को ताज पहनाया और श्रीमती डी सिल्वा को मंच से जाने के लिए कहा, इस घटना का एक वीडियो वायरल हो रहा है। बाद में आयोजकों ने श्रीमती डी सिल्वा से माफी मांगी और बताया की वह तलाकशुदा नहीं हैं।

एक फेसबुक पोस्ट में, डी सिल्वा ने कहा कि वह इस घटना के बाद सिर की चोटों के इलाज के लिए अस्पताल गई थी। श्रीमती डी सिल्वा ने कहा कि उनके साथ ‘अनुचित और अपमानजनक’ व्यवहार के लिए कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

श्रीमती डी सिल्वा ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘आज मेरे जैसे बहुत सारे लोग हैं जो श्रीलंका में पीड़ित हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह मुकुट महिलाओं, एकल माताओं को समर्पित है, जो अपने बच्चों को अकेले पालने के लिए तरसती हैं।’’

(एजेंसी के इनपुट्स के साथ)