नेपाल के रुई गाँव पर किया चीन ने कब्जा, पीएम ओली सवालों के घेरे में

Nepalvillage

नई दिल्लीः चीन लद्दाख में भारत की जमीन को अपना बताकर उस पर कब्जा करना चाहता है। उधर, चीन ने नेपाल के गोरखा जिले में रुई गांव पर कथित रूप से कब्जा कर लिया है। ऐसा लग रहा है कि, रुई गाँव अब तिब्बत से कट गया है और चीन ने जबरदस्ती उस पर अपना अधिकार जमा लिया है। नेपाल के एक अखबार, ‘खबरहब’ ने नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली पर आरोप लगाया है कि जो आक्रामक रुख उन्होंने भारत के प्रति अपनाया, अगर वही रूख वह चीन के प्रति दिखाते तो शायद रुई गाँव अभी भी नेपाल के अधीन होता।

Read more: भारत को जल्द मिल सकता है एस-400 डिफेंस सिस्टम, वायु सेना को मिलेगी नई ताकत

हालांकि, एक रिपोर्ट में कहा गया है कि रुई गांव अभी भी नेपाल के नक्शे में शामिल है, चीन ने अपने कब्जे को वैध बनाने के लिए वहां से बाउंड्री पिलर्स को हटा दिया है। इस गांव में लगभग 72 घर हैं, कथित तौर पर नेपाल सरकार और उसके अधिकारियों की लापरवाही और उदासीनता के कारण आज यह गांव चीन के अधीन है। भूमि राजस्व कार्यालय (गोरखा)  के दफ्तर में भी गांववालों से रेवेन्यू वसूले जाने के दस्तावेज मौजूद हैं। रेवेन्यू अधिकारी ठाकुर खानल ने अखबार से बताया है कि ग्रामीणों से रेवेन्यू वसूलने के दस्तावेज अभी भी फाइल में सुरक्षित रखे हैं। 

Read more: रिश्तो को किया शर्मसार, चचेरे भाई ने 14 वर्षीय बहन से किया बलात्कार

इतिहासकारों के अनुसार, रुई और टेघा दोनों गाँव जो कि गोरखा जिले के उत्तरी भाग में स्थित हैं, बाउंड्री पिलर्स को ठीक करने में नेपाली अधिकारियों की लापरवाही के कारण खो गए हैं। उन्होंने कहा कि यह इलाका कभी भी चीन से जंग के दौरान नहीं हारा और ना ही दोनों देशों के बीच ऐसा कोई विशेष समझौता हुआ था। यह केवल सरकारी लापरवाही का नतीजा है। उन्होंने कहा, भारत की सीमा सुलभ है, दोनों तरफ के लोग कहीं भी आ-जा सकते हैं। इसलिए, भारत के साथ सीमा मुद्दे सभी को दिखाई देते हैं, लेकिन तिब्बत के साथ उत्तरी सीमा पर नेपाल की स्थिति बेहद खराब है।

Read more: Alert: Keep these in mind to avert Chinese cyber attack on India

 

#landlocked #Nepal #loggerheads #encroachment #Kalapani #Lipulekh #China #occupied #Rui village #Gorkhadistrict #annexedtoTibet #KPOli