UNSC: भारत शक्तिशाली 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद में एक अस्थाई सदस्य के रूप में शामिल

UNSC

नई दिल्लीः भारत बुधवार की रात को दो साल के लिए एशिया-पैसीफिक कैटेगरी से गैर-स्थायी सदस्य के रूप में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में चुना गया। निर्वाचित होने के लिए न्यूनतम आवश्यकता 128 मतों की थी। 193 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अपने 75वें सत्र के लिए अध्यक्ष, सुरक्षा परिषद के अस्थाई सदस्यों और आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के सदस्यों के लिए चुनाव कराया था। भारत को निर्विरोध चुने जाने के साथ-साथ 2021-22 कार्यकाल के लिए संयुक्त राष्ट्र की सर्वोच्च संस्था का अस्थाई सदस्य बन जाएगा। आयरलैंड, मेक्सिको और नॉर्वे को भी सुरक्षा परिषद में एंट्री मिली है जबकि कनाडा को बाहर ही रहना पड़ेगा।

भारत ने इससे पहले 1950-1951, 1967-1968, 1972-1973, 1977-1978, 1984-1985, 1991-1992 और 2011-2012 में यूएनएससी के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में सात बार काम किया है।

Also read: ‘गरीब कल्याण रोजगार योजना’ में बिहार के 32 जिले शामिल, प्रवासी मजदूरों को अपने राज्य में ही मिलेगा काम

सुनिश्चित जीत के बाद संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि भारत नेतृत्व जारी रखेगा और एक बेहतर बहुपक्षीय व्यवस्था को नई दिशा देगा। भारत को 192 बैलट वोट्स में से 184 वोट मिले। तिरुमूर्ति ने कहा, ‘‘मैं बहुत खुश हूं कि भारत को साल 2021-22 के लिए न्छैब् का अस्थाई सदस्य चुन लिया गया है। हमें भारी समर्थन मिला है और संयुक्त राष्ट्र के सदस्यों ने जो विश्वास जताया है उससे विनम्र महसूस कर रहा हूं।’’

Also read: सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना वायरस के चलते ऐतिहासिक जगन्नाथ यात्रा पर लगाई रोक

उन्होंने कहा कि भारत को सिक्यॉरिटी काउिंसल में चुना जाना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन और वैश्विक नेतृत्व को पुख्ता करता है, खासकर कोरोना महामारी के समय में। उन्होंने कहा, ‘‘भारत एक अहम समय पर सुरक्षा परिषद का सदस्य बना है और हमें भरोसा है कि कोविड के दौरान और कोविड के बाद की दुनिया में भारत हमेशा नेतृत्व प्रदान करेगा और बेहतर बहुपक्षीय व्यवस्था को नई दिशा देगा।’’

Also read: पुलिस प्रताड़ना के शिकार युवक ने खाया जहर, अस्पताल में लड़ रहा जिंदगी की जंग

 

 

#IndiamemberofUNSC #UNSC