Second Wave: CSIR-CCMB निदेशक ने कहा, भारत के लिए अगले तीन सप्ताह महत्वपूर्ण

CSIR

नई दिल्लीः कोरोना वायरस की दूसरी लहर पहले की तुलना में अधिक संक्रामक साबित हो रही है। कोविड-19 के प्रसार के संदर्भ में भारत के लिए अगले तीन सप्ताह महत्वपूर्ण हैं, रविवार (18 मार्च) को CSIR-CCMB (सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी) के निदेशक डॉ राकेश मिश्रा ने कहा कि यह बहुत महत्वपूर्ण है। लोग दिशानिर्देशों का बहुत सख्ती से पालन करें।

एक समाचार एजेंसी से बात करते हुए, मिश्रा ने जोर देकर कहा कि लोगों को कोविड-19 से संक्रमित होने से बचाने के लिए दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए। अगले 3 सप्ताह संक्रमण के प्रसार के मामले में भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। लोगों को अत्यंत सावधानी बरतनी चाहिए। अस्पताल के बेड, ऑक्सीजन सिलेंडर और टीके की कमी के बारे में, डॉ मिश्रा ने कहा कि अगर स्थिति बनी रही, तो देश विनाशकारी स्थिति में होगा।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने इस तरह की स्थिति इटली में देख चुके है, जहां कई लोग दवा और ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी के कारण अस्पतालों के गलियारों में अपनी जान गंवा चुके हैं। पिछले साल, स्वास्थ्य सेवा कर्मचारी स्थिति को संभालने में बहुत प्रभावी थे।’’

देश में कोविड-19 सकारात्मक मामलों की बढ़ती संख्या के बारे में बोलते हुए डॉ मिश्रा ने कहा कि दूसरी लहर बहुत अपेक्षित थी। उन्होंने कहा, ‘‘पिछले कुछ महीनों में, कई मेडिकल बुद्धिजीवियों ने कहा है कि वायरस और इसका प्रभाव अभी कम है और इसका पूरी तरह से सफाया नहीं हुआ है। हमें इस तरह की स्थिति के लिए थोड़ा और तैयार रहना चाहिए।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘कोविड-19 जैसे संक्रमणों में, यह काफी सामान्य है कि वायरस की उत्परिवर्तन के रूप में एक दूसरी लहर होगी और जो भी उत्परिवर्तित वैरिएंट वायरस का प्रसार होगा वह तेजी से फैल जाएगा। इसमें बहुत सारे नए संस्करण हैं। 

अगर भारत कोविड के दिशानिर्देशों का पालन नहीं करता है, तो भारत में अधिक लोग इस दूसरी लहर में संक्रमित होंगे। उन्होंने आगे कहा कि इस तरह के मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे हैं क्योंकि लोगों ने मास्क नहीं लगाकर और यह सोचकर कि यह पूरी तरह से चला गया है, खुद की देखभाल करना बंद कर दिया है। 

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, महामारी को हराने के लिए टीका एक बहुत ही महत्वपूर्ण उपकरण है, लेकिन लोगों को अभी भी कोविड के दिशानिर्देशों का पालन करना याद रखना चाहिए क्योंकि वायरस उन लोगों में भी फैल सकता है, जिन्हें टीका लगाया गया है। उन्होंने आगे कहा, ‘‘कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सी लहर है, यह तब नहीं फैल सकता है जब हम कोविड के दिशानिर्देश का सख्ती से पालन करते हैं।

देश भर में चल रहे कुंभ मेले और अन्य धार्मिक समारोहों और राजनीतिक अभियानों के बारे में बोलते हुए, मिश्रा ने कहा कि यह बेहद खतरनाक है जब विशेष रूप से कुंभ मेले और राजनीतिक समारोहों जैसे स्थानों पर लोगों का एक बड़ा जमावड़ा होता है क्योंकि यह एक आदर्श स्थान है, जहां वायरस कई अन्य लोगों में फैलता है।

उन्होंने कहा, ‘‘लोग बिना जाने-समझे संक्रमित हो जाएंगे और अपने घर कस्बों में वापस चले जाएंगे और अधिकांश गाँवों में वायरस को फैलाएंगे, जिसके परिणामस्वरूप ये घातक वायरस अधिक लोगों तक फैल जाएगा।’’ मिश्रा ने लोगों से अपील की कि वे आगे आएं और टीकाकरण करवाएं।

उन्होंने कहा, ‘‘इस महामारी को दूर करने के लिए, लोगों को बड़ी संख्या में टीका लगाया जाना चाहिए और आगे भी टीका लगाया जाने के बाद, किसी को मास्क का उपयोग करना नहीं भूलना चाहिए। कोरोनो वायरस के पूरी तरह से हवा के नमूने के बाद, यह पाया गया है कि हवा के माध्यम से ये वायरस फैल सकता है। 

यह एक बंद क्षेत्र में 20 फीट तक बढ़ सकता है। मास्क पहनने के बाद आप 80 से 90 फीसदी सुरक्षित रह सकते हैं। अगर दूसरा व्यक्ति भी मास्क पहनता है, तो 99 प्रतिशत सुरक्षित हो सकते हैं।

(एजेंसी इनपुट्स के साथ)