R1

भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए गुरुवार को केले व खिचड़ी का न करें सेवन

गुरुवार देवगुरु बृहस्पति का दिन होता है और शास्त्रों में बृहस्पति देव देवताओं के गुरु माने जाते हैं। सप्ताह का यह दिन विशेष रूप से भगवान विष्णु को समर्पित होता है। कहते हैं सच्चे मन से जो लोग भगवान विष्णु की पूजा करते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं जरूर पूरी होती हैं। भगवान विष्णु की पूजा से माता लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं और धन संबंधी परेशानियां नहीं आती हैं। भगवान विष्णु की पूजा के लिए कुछ खास नियम हैं, जिनका पालन करना बेहद जरूरी है। कुछ ऐसी चीजें हैं, जिनको इस दिन खाने से बचना चाहिए।

DevuthaniEkadashi

Dev Uthani Ekadashi 2021: आज है देवउठनी एकादशी; जानें! तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त व पूजन की सम्पूर्ण विधि

हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को भगवान विष्णु के शालीग्राम स्वरूप और माता तुलसी का विवाह किया जाता है। इस दिन को देवउठनी एकादशी कहा जाता है। देवउठनी एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु चार महीने बाद योगनिद्रा से जागते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान श्रीहरि योग निद्रा से जागने के बाद सर्वप्रथम हरिवल्लभा यानी माता तुलसी की पुकार सुनते हैं। तुलसी विवाह के साथ ही विवाह के शुभ मुहूर्त भी शुरू हो जाते हैं। जानिए तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त, तिथि और विधि-

Amla Navami

सनातन धर्म में अक्षय या आंवला नवमी का महत्व, पूजा विधि और कथा

कार्तिक माह में हिन्दू मान्यता के अनुसार बहुत से त्यौहार मनाये जाते है। अलग अलग क्षेत्र, समुदाय के लोग अलग अलग त्यौहार मनाते है। भारत के उत्तर एवं मध्य भारत में आवला नवमी का त्यौहार इसी तरह का पारिवारिक त्यौहार है। आँवला नवमी अथवा  नवमी कार्तिक माह शुक्ल पक्ष की नवमी के दिन मनाई जाती हैं। यह पर्व दिवाली त्योहार के बाद आता हैं। वर्ष 2021 में 13 वंबर को मनाई जायेगी।

Le

19 नवम्बर, 2021 को आंशिक चंद्र ग्रहण घटित होगा

नई दिल्ली: 19 नवम्बर, 2021 (28 कार्तिक, शक संवत 1943) को आंशिक चंद्र ग्रहण घटित होगा । भारत में चंद्रोदय के तत्काल बाद ग्रहण की आंशिक अवस्था का अंत बहुत अल्प अवधि के लिए अरुणांचल प्रदेश एवं असम के सुदूर उत्तर पूर्वी हिस्सों से दिखाई देगा ।

Chhat

विशेष: जानिए! कौन हैं छठी मैया?

विविधताओं में एकता का प्रतीक भारतवर्ष पर्वों व त्योहारों के लिए विश्व प्रसिद्ध है। यहाँ मनाए जाने वाले प्रत्येक पर्व के भीतर निहित है संपूर्ण मानव जाति के लिए अनेक प्रेरणाएं व संदेश।
इस कार्तिक माह में भी एक ऐसा हीं पर्व आ रहा है छठ। कार्तिक शुक्ल षष्ठी को मनाया जाने वाला छठ महापर्व भारत के अनेक राज्यों जैसे बिहार, झारखंड, त्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात व दिल्ली आदि जगहों सहित विश्व भर के अन्य देशों जैसे नेपाल, मॉरीशस, फिजी आदि विदेशी प्रांतों में भी बहुत हीं हर्षोल्लास से मनाया जाता है।
समय के साथ साथ छठ पर्व संपूर्ण विश्व भर में प्रचलित होता जा रहा है।
कहा जाता है कि बिहार के नालंदा जिले के बड़गाँव में स्थित सूर्य मंदिर हीं वह जगह है जहाँ से छठ पर्व की शुरुआत हुई थी।