Cg5

मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना से दूरस्थ अंचलों में स्वास्थ्य सुविधाओं की पहुंच हुई आसान

नारायणपुर : मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना राज्य शासन की ऐसी महत्वाकांक्षी योजना है, जिसने प्रदेश में दूरस्थ गाँवो एवं वनांचलों में रहने वाले लोगों को घर तक स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाई है। हाट-बाज़ारों में मोबाइल मेडिकल यूनिट (एमएमयू) शिविर के माध्यम से लोगों की निःशुल्क जांच और उपचार कर दवाइयां उपलब्ध करायी जा रही है, जो ऐसे क्षेत्रों में वरदान बनकर उभरी हैं। मुखयमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में शासन के निर्देशानुसार नारायणपुर जिले में हाट-बाज़ारों में स्वास्थ्य शिविर लगाए जा रहे है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 01 अप्रैल 2021 से अब तक जिले में कुल 1 हजार सात सौ लाभार्थियों ने हाट बाजार क्लीनिक में स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठाया, जिसमें विकासखंड नारायणपुर से 1299 एवं विकासखंड ओरछा से 432 से अधिक लाभार्थी शामिल है। अब तक 1 हजार सात सौ मरीजों को निःशुल्क दवाईयों का वितरण भी किया गया है। हितग्राही बताते हैं कि साप्ताहिक हाट-बाजार तो जाते ही है, यहां ही हाट बाजार क्लीनिक में उन्होंने जांच भी करवा लेते हैं, यहां मिले इलाज एवं दवाइयों से उन्हें आराम मिलता है।

Cg4

ग्राम स्वरोजगार केंद्र से नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के युवाओं को मिला रोजगार

दंतेवाड़ा : जिला का विकासखंड कटेकल्याण अत्यंत दूरस्थ नक्सल प्रभावित क्षेत्र है, जो भौगोलिक एवं आवागमन के दृष्टि से अत्यंत दुर्गम क्षेत्र है। जहाँ ग्रामों में युवा पढ़ लिख कर बेरोजगारी की दंश झेल रहे है। ऐसे में यहाँ के स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराकर  समाज की मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। जिला कलेक्टर श्री दीपक सोनी के द्वारा ग्राम स्वरोजगार केंद्र की परिकल्पना से गरीबी बेरोजगार युवाओं को शासन की ओर से आर्थिक सहयोग कर स्वयं के  ग्राम में व्यवसाय करने की प्रेरणा दी गयी। योजना के तहत सहायक आयुक्त आदिवासी विकास  विभाग को इस कार्य का नोडल बनाया गया। विभाग के द्वारा अपने अधीक्षकों को ग्राम नोडल स्तर पर तथा मंडल संयोजक को ब्लॉक स्तर का नोडल बनाया गया। इस प्रकार ग्राम नोडल अधीक्षकों के द्वारा ग्राम पंचायत स्तर पर बैठक कर इस योजना के बारे में जानकारी दी गयी। इच्छुक युवा बेरोजगारों का चयन कर रोजगार करने के लिए प्रेरित किया गया।

Cg3

कंगारू मदर केयर से जगदीश को मिली नई जिन्दगी

दंतेवाड़ा : कंगारू मदर केयर से करंजेनार कुम्हाररास के गंभीर कुपोषित जगदीश ने किया कुपोषण को पराजित। सेक्टर पर्यवेक्षक (श्रीमती ऊषा सिंह) एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता (सुश्री जया बघेल) के सतत् गृहभेंट एवं परामर्श लायी रंग ग्रोथ चार्ट में बच्चे की श्रेणी हरे रंग में सुपोषित जगदीश के परिवार में छाई खुशहाली की लहर।

Cg2

जशपुर के नाशपाती का स्वाद पहुंचा दूर-दूर तक, समूह की महिलाएं विक्रय कर बढ़ा रही आमदनी

रायपुर : छत्तीसगढ़ में परम्परागत खेती-किसानी के साथ लोग अब आजीविका के नये क्षेत्रों में भी आगे बढ़ रहे हैं। राज्य सरकार द्वारा भी नवाचारों को लगातार प्रोत्साहित करने के साथ अधिक से अधिक लोगों तक इसका लाभ पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। नवाचारों के दिशा में कदम बढ़ाते हुए जशपुर जिले के किसानों ने नाशपाती की खेती को बड़े पैमाने पर अपनाया है। यहां के बगीचा-सन्ना क्षेत्र के किसान बहुत अधिक मात्रा में इसकी खेती करते है। जिले के लगभग 17 सौ किसान नाशपाती का उत्पादन से जुड़े हैं। यहां 750 हेक्टेयर क्षेत्र में लगभग 700 टन नाशपाती का उत्पादन होता है।

Cg1

बिहान दीदीयों के हौसलों के आगे लोहा भी पड़ा नरम

रायपुर : छत्तीसगढ़ की महिलाएं अब पुरूषों का व्यवसाय माने जाने वाले कई क्षेत्रों को अपनाकर आत्मनिर्भर बन रही हैं। महासमुन्द जिले के विकासखंड बागबाहरा के अंदरूनी गाँव कोमाखान में छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत संचालित बिहान की दीदीयां लोहे की तार फेंसिंग के निर्माण कार्य से जुड़ी हैं। एकता महिला स्व-सहायता समूह की इन दीदीयों के हौसलों के आगे लोहा भी नरम पड़ गया है। बिहान समूह की दीदीयों ने कुछ माह में ही 169 बण्डल फेंसिंग तार का विक्रय कर एक लाख 90 हजार 365 रूपए की आमदनी अर्जित की है। इनके बनाए फेंसिंग तार की सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं में बहुत माँग है।