पट्टादार की जानकारी के बिना जमीन किसी दूसरे के नाम!

Jj2

लखीमपुरः शहर के नकारी निवासी श्रीमती रूपा दत्त बरा ने नार्थ लखीमपुर प्रेस क्लब में सम्पन्न एक प्रेस मीट में शिकायत की है कि उनकी जानकारी के बगैर उत्तर लखीमपुर राजस्व परिक्षेत्र के नकारी मौजे के लखीमपुर शहर की एक मियादी पट्टा की जमीन को किसी अन्य के नाम से जारी कर दिया गया हैं। पीड़ित महिला ने असम के मुख्यमंत्री के पास जिला उपायुक्त के जरिये एक शिकायती पत्र प्रेषित किया है। 

रूपा दत्त बरा ने प्रेस मीट में पत्रकारों को बताया कि इनके पति रूद्र दत्त का सन 2014 में निधन हुआ था। उनके नाम से उत्तर लखीमपुर शहर के द्वितीय अंश राजस्व नक़्शे की मियादी पट्टा न (पुराना) 166 दाग न 1026 जमीन की 3 कठ्ठा आधा लुसा जमीन पत्नी रूपा दत्त बरा और पुत्री दिशा दत्त के नाम से और उतनी ही जमीन रूद्र दत्त की बहन रुपमा दत्त के नाम से नामजारी हुई थी। यानि उत्तराधिकारी के रूप में रूद्र दत्त के नाम की 6 कठ्ठा 2 लुसा जमीन को दो हिस्सों में पत्नी और बहन के नाम से बंटवारा हुआ था और उनके नाम से नाम जारी हुई थी। किन्तु रूद्र दत्त की बहन रुपमा दत्त ने उत्तर लखीमपुर राजस्व क्षेत्र के कार्यालय के लाट मंडल उमानंद मरांग की मदद से रूपा दत्त का नाम सिर्फ पट्टादार के रुपमे एख कर बंटवारा केस न एलएकेयुटीटी/2019/20/63 के जरिये रूपा दत्त के हिस्से की जमीन भी अपने नाम से करा ली। 

इसे लेकर रूपा दत्त बरा द्वारा  इस अन्याय के खिलाफ राजस्व अदालत में मामला दर्ज कराये जाने पर अदालत ने उभय पक्षों की बात सुनने के बाद राजस्व अपील केस के माध्यम से गत 5 अप्रैल को बंटवारे के उस आदेश को रद्द कर पूर्वानुसार जमाबंदी को शुद्ध कर दिया अर्थात दोनों को आधी आधी  जमींन दे दी। 

भुक्तभोगी महिला के अनुसार जब उन्होंने गत 5 सितम्बर को धरित्री पोर्टल पर पर जमाबंदी की परीक्षा की तो उन्हें पता चला कि उनके हिस्से की जमीन को उत्तर लखीमपुर राजस्व विभाग के अधिकारी गीताली दुवरा ने रुपमा दत्त के आवेदन के आधार पर गत 21 अप्रैल  को दिए गए एक फैसले के अनुसार पहले के अवैध तरीके से किये गए बंटवारे को ही बहाल रखा परिणामस्वरूप वैधव्य जीवन व्यतीत कर रही रूपा दत्त बरा भूमिहीन हो गई। रूपा दत्ता के कथनानुसार राजस्व कार्यालय के लाट मंडल उमानंद मरांग ने उस जमीन में से 2 कठ्ठा 10 लुसा जमीन अपनी पत्नी ममी टावर के नाम से खरीदी है। जो रहस्यपूर्ण है और लोग इसकी जाँच के पक्षधर हैं।

Add comment


Security code
Refresh