Globalwarming

भूमध्यरेखा पर ग्लोबल वार्मिंग ने बढ़ाई इतनी गर्मी कि समुद्री जीवन हुआ अस्त-व्यस्त

in Op-ed

एक नए अध्ययन से पहली बार यह पता चला है कि जलवायु परिवर्तन के चलते समुद्री जीवन अस्त व्यस्त हो चुका है। यहाँ तक की भूमध्यरेखा और ट्रॉपिक्स पर पानी में गर्मी इस कदर बढ़ चुकी है कि वहां से तमाम समुद्री जीवन की प्रजातियाँ दूर जा चुकी हैं।

भूमध्यरेखीय जल में पाए जाने वाले खुले पानी की प्रजातियों की संख्या बीते 40 वर्षों में आधी रह गयी है और वजह है ये कि कुछ प्रजातियों के जीवित रहने के लिए भूमध्य रेखा का जल बहुत गर्म हो गया है। प्रजातियों में इस नाटकीय बदलाव का पारिस्थितिकी प्रणालियों और समुद्री भोजन और पर्यटन के लिए समुद्री जीवन पर निर्भर लोगों के लिए बड़े परिणाम हैं।

Ufire

क्या उत्तराखंड की बढ़ती गर्मी बनी, वहाँ जंगलों में लगी आग का सबब?

in Op-ed

जंगलों में लगने वाली आग अब तक हमें अमेरिका और ब्राज़ील की याद दिलाती हैं। लेकिन अब, आग लगने की ख़बर हमारे अपने उत्तराखंड के जंगलों से फ़िलहाल आ रही है। अटपटा सिर्फ यही नहीं कि भारत के जंगलों में आग लगी है। जंगलों में आग लगना असामान्य नहीं है लेकिन हैरान करने वाली बात ये भी है कि अब जंगलों में आग लगने की घटनाएँ तब हो हो रही हैं जब पहले नहीं हुआ करती थीं। सोचने बैठिये तो समझ आएगा कि इसका सीधा नाता बदलते मौसम, यानि जलवायु परिवर्तन, से है। सरलीकरण कर के सोचें तो एहसास होता है कि गर्मियां बढ़ रही हैं, पेड़ पौधे ज़यादा सूख रहे हैं, धरती का पानी सूख रहा है, टूटे पत्ते जल्दी सूख रहे हैं और सूखे पत्ते भी आग लगने का सबब बनते हैं। भारत में भी इस सब का असर साफ़ दिख रहा है। साल 2020 में भारत के कम से कम 4 राज्यों के जंगलों में आग की बड़ी घटनायें हुई। ये राज्य थे उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा और नागालैंड।

Coalpower

ट्रम्प के नेतृत्व में ओबामा काल से ज़्यादा कोयला बिजली प्लांट हुए रिटायर

in Op-ed

भले ही डोनाल्ड ट्रम्प पेरिस समझौते से अमेरिका को बाहर निकालने के लिए पर्यावरण विरोधी कहे जाते हों, लेकिन ताज़ा आंकड़े बताते हैं कि बराक ओबामा के आख़िरी शासन काल के मुकाबले ट्रम्प के शासन काल में ज़्यादा क्षमता के कोयला बिजली संयंत्रों को रिटायर किया गया।

वहीँ चीन में साल 2020 में 38.4 गीगावॉट के नए कोयला संयंत्रों को कमिशन किया गया। दूसरे शब्दों में चीन ने पिछले साल स्थपित कुल वैश्विक क्षमता (50.3 गीगावॉट) का 76 फ़ीसद कर लिया। और इसी के साथ चीन 2020 में कुल प्रस्तावित (87.4 गीगावाट GW) नए कोयला संयंत्रों के के 85 फ़ीसद हिस्सेदार बन गया।

Zero

फ़िलहाल भारत का नेट ज़ीरो होने का इरादा नहीं, ऊर्जा मंत्री ने उल्टा चीन पर हमला बोला

in Op-ed

तमाम कयासों को शांत करते हुए भारत के ऊर्जा एवं रिन्यूएबिल एनर्जी मंत्री राज कुमार सिंह ने न सिर्फ साफ़ कर दिया है कि भारत फ़िलहाल नेट ज़ीरो एमिशन के लिए कोई वायदा नहीं करेगा, बल्कि भारत के ऊर्जा मंत्री ने चीन और उस जैसे बड़े उत्सर्जकों पर तीखा हमला भी कर डाला है। यह घटनाक्रम हुआ अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा संस्था, IEA, द्वारा आयोजित वर्चुअल नेट जीरो सम्मेलन में जहाँ ऊर्जा मंत्री ने नेट ज़ीरो के लक्ष्यों को फ़िलहाल असम्भव बताते हुए अमीर देशों से अपने उत्सर्जन में कटौती के लिए आगे आने को कहा।

Netzero

क्या IEA वर्ल्ड एनर्जी आउटलुक में नेट ज़ीरो मार्ग को रेखांकित करेगा?

in Op-ed

वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने और पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक साथ काम करने के इरादे से 31 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (IEA) और संयुक्त राष्ट्र की 26वीं क्लाइमेट चेंज कांफेरेंस (COP26) के नेट शून्य शिखर सम्मेलन में 40 से अधिक देशों के शीर्ष अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा और जलवायु नेताओं ने भाग लिया।

वर्षों से IEA नेट ज़ीरो का मार्ग रेखांकित करने में अपनी भूमिका को यह कह कर नकारता रहा है कि पेरिस समझौते के अनुकूल इस मार्ग पर चलना ण व्यावहारिक है न संभव है। इस पृष्ठभूमि में यह एक महत्वपूर्ण शिखर सम्मेलन था क्योंकि IEA दुनिया का सबसे प्रभावशाली मंच है जो दीर्घकालिक ऊर्जा परिदृश्यों को प्रदर्शित करता है। यही कारण है कि एनर्जी ट्रांजीशन के संदर्भ में संभावनाओं को आकार देने में इसकी शक्तिशाली भूमिका है।