Vaccination Update: टीकाकरण में भारत ने रचा इतिहास, 100 करोड़ का ऐतिहासिक आंकड़ा छुआ

Vaccine 4

नई दिल्लीः केंद्र सरकार देशभर में कोविड-19 टीकाकरण का दायरा विस्तृत करने और लोगों को टीके लगाने की गति को तेज करने के लिये प्रतिबद्ध है। इसी कड़ी में भारत ने कोविड-19 के टीके का आंकड़ा 1 बिलियन, या 100 करोड़, खुराक को पार कर लिया है। भारत ने ये ऐतिहासिक आंकड़ा केवल 9 महीने में पार किया जो एक रिकार्ड बन गया है। सरकार 100 करोड़ वैक्सीन का लैंडमार्क पार करने के लिए इसे एक त्योहार के रूप में मनाने की योजना बना रही है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने कहा है कि जब भारत एक अरब या 100 करोड़ वैक्सीन खुराक के लैंडमार्क को पार कर जाता है तो देश में जश्न मनाना और लाल किले पर तिरंगा फहराना सरकार की योजनाओं में से एक है।

अब तक, अकेले चीन ने एक अरब से अधिक वैक्सीन खुराक प्रदान की है और एक अरब से अधिक की आबादी वाला एकमात्र अन्य देश भी है। चीन ने जून में 1 अरब खुराकें पूरी कीं थी।

सितंबर में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को चिह्नित करने के लिए एक दिन में 2.5 करोड़ खुराक दी गई थी। यह भी चौथी बार था जब एक दिन में 1 करोड़ से ज्यादा डोज दी गई।

कोविड-19 के टीकों को सभी के लिए उपलब्ध कराने के लिए नया चरण 21 जून 2021 से शुरू किया गया था। टीकाकरण अभियान की रफ्तार को अधिक से अधिक टीके की उपलब्धता के जरिये बढ़ाया गया है। इसके तहत राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को टीके की उपलब्धता के बारे में पूर्व सूचना प्रदान की जाती है, ताकि वे बेहतर योजना के साथ टीके लगाने का बंदोबस्त कर सकें और टीके की आपूर्ति श्रृंखला को दुरुस्त किया जा सके।

देशव्यापी टीकाकरण अभियान के हिस्से के रूप में केंद्र सरकार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निरूशुल्क कोविड टीके प्रदान करके उन्हें पूर्ण सहयोग दे रही है। टीके की सर्व-उपलब्धता के नये चरण में, केंद्र सरकार टीका निर्माताओं से 75 प्रतिशत टीके खरीदकर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निरूशुल्क प्रदान करेगी।

केंद्र सरकार द्वारा अब तक निःशुल्क और सीधे राज्य सरकार खरीद माध्यमों से टीके की 103.5 करोड़ से अधिक (1,03,53,51,045) खुराकें राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उपलब्ध कराई गई हैं।अभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 टीके की 10.85 करोड़ से अधिक (10,85,69,250) अतिरिक्त और बिना इस्तेमाल हुई खुराकें उपलब्ध है, जिन्हें लगाया जाना है।

कहा जाता है कि दैनिक मामलों की कम संख्या ने ग्रामीण क्षेत्रों में प्रचलित वैक्सीन झिझक के अलावा, अधिकांश लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने की आवश्यकता को कम कर दिया है।

सरकार समस्या से अवगत है और उसने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से दूसरी खुराक वितरण पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह किया है, और उन्हें इस अंतर को पाटने के लिए रणनीतियों को साझा करने की सलाह दी है।

केंद्र ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की खुराक की आपूर्ति करने के लिए अपनी तत्परता से यह संकेत दिया है कि उनके पास अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए पर्याप्त स्टॉक है।

Add comment


Security code
Refresh