भारत में कोविड से करीब 50 लाख मौतें, विभाजन के बाद से सबसे बड़ी मानवीय त्रासदीः स्टडी में दावा

Covid Toll

नई दिल्लीः भारत जनवरी 2020 से जुलाई 2021 के बीच कोरोना वायरस संक्रमण से जूझ रहा है। तीसरी लहर का संभावित खतरा अभी भी मंडरा रहा है। कोरोना की दूसरी लहर ने देश में जो कहर मचाया, उससे लोग अभी तक नहीं उबरे हैं। भारत में भले ही सरकारी आंकड़ों के हिसाब से करीब चार लाख से अधिक मौतें हुई हों, मगर अमेरिकी रिपोर्ट में इससे 10 गुना अधिक होने का दावा किया गया है। अमेरिकी शोध समूह की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कोविड-19 से लगभग 50 लाख (4.9 मिलियन) लोगों की मृत्यु हुई है, यह स्वतंत्रता के बाद से देश की सबसे बड़ी मानवीय त्रासदी है। कोरोना वायरस का प्रकोप दुनिया भर में चिंता की एक नई लहर पैदा कर रहा है।

सीरोलॉजिकल अध्ययन, घरेलू सर्वेक्षण, राज्य-स्तरीय नागरिक निकायों के आधिकारिक डेटा और अंतरराष्ट्रीय अनुमानों के आधार पर, वाशिंगटन स्थित सेंटर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट ने मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में भारत में कई गुना अधिक मौंतो का अनुमान लगाया गया है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत में अब तक कोरोना से 4,14,482 लोगों की मौत हुई है, जो दुनिया में तीसरे नंबर पर है। वहीं, अमेरिका में 6,09,000 और ब्राजील में 5,42,000 मौतें हुई हैं। अमेरिकी स्टडी ग्रुप सेंटर ऑफ ग्लोबल डिवेलपमेंट की रिपोर्ट में जो दावा किया गया है, वह अब तक का सबसे अधिक है। जो किसी भी संगठन की ओर से बताया गया है। यह स्वीकार करते हुए कि सांख्यिकीय आंकड़ों के साथ कोविड-मृत्यु का अनुमान लगाना भ्रम में डाल सकता है, रिपोर्ट में कहा गया है कि टोल ‘आधिकारिक गणना से अधिक परिमाण का एक क्रम होने की संभावना है’ और इस रिपोर्ट के अनुसार ‘सैकड़ों हजारों के बजाय लाखों लोग मर गए होंगे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च 2020 से फरवरी 2021 तक अपनी पहली लहर के दौरान वास्तविक समय में त्रासदी के पैमाने को समझने में भारत की अक्षमता ही दूसरी लहर की भयावहता का कारण बनी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पहली लहर ‘व्यापक रूप से विश्वास की तुलना में अधिक घातक थी’ और पहली लहर में लगभग 2 मिलियन लोग मारे गए होंगे। भारत में मृत्यु का नवीनतम अध्ययन तब सामने आया जब ‘डेल्टा’ संस्करण कई पश्चिमी देशों को हिला रहा है।

अमेरिका में कोविड के मामले, ज्यादातर डेल्टा वैरिएंट से और ज्यादातर बिना टीकाकरण वाले, पिछले एक सप्ताह में बढ़कर 32,000 हो गए हैं - पिछले सात दिनों में 66 प्रतिशत की वृद्धि।

देश के सबसे रूढ़िवादी हिस्सों में टीके के प्रतिरोध के बीच, सीडीसी ने कहा है कि 99 प्रतिशत से अधिक कोविड-19 मौतें और 97 प्रतिशत सीआई अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों में से हैं, जिन्हें टीका नहीं लगाया गया है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Add comment


Security code
Refresh