अधिक गेट खोलने से भीड़भाड़ होगी, कोविड-19 प्रोटोकॉल का होगा उल्लंघन: DMRC

DMRC

नई दिल्लीः दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) ने गुरुवार को दोहराया कि वह सोशल डिस्टेंसिंग प्रोटोकॉल सुनिश्चित करने के लिए और अधिक गेट नहीं खोल पाएगा और मेट्रो स्टेशनों के बाहर लंबी कतारें थोड़ी देर तक जारी रह सकती हैं। डीएमआरसी ने एक बयान में कहा कि मेट्रो स्टेशनों और ट्रेनों के अंदर भीड़ को नियंत्रित करना मुश्किल होगा यदि अधिक गेट खोले जाते हैं, जिससे कोविड-19 नियमों का उल्लंघन होता है। इसमें कहा गया है कि अधिक गेट खोलने से मदद नहीं मिलेगी क्योंकि ट्रेनों के अंदर यात्रियों की संख्या केवल बैठने तक सीमित है।

अनुज दयाल, कार्यकारी निदेशक डीएमआरसी ने कहा, ‘‘वर्तमान में, मेट्रो स्टेशनों के बाहर यात्रियों की लंबी कतारें देखी जाती हैं और यात्रियों को प्रवेश करने से पहले मेट्रो स्टेशनों के बाहर इंतजार करना पड़ता है। इसके अलावा, स्टेशनों के सभी गेट प्रवेश के लिए नहीं खोले जाते हैं। स्टेशनों पर केवल एक गेट पर कम पैदल यात्री होते हैं और व्यस्त स्टेशनों पर दो गेट खोले गए हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘डीएमआरसी ने समय-समय पर उपरोक्त स्थिति का कारण स्पष्ट किया है और यह एक बार फिर स्पष्ट किया जाता है कि हालांकि डीएमआरसी ट्रेनों के लगभग पूरे बेड़े को डीएमआरसी द्वारा चालू किया जा रहा है, फिर भी वर्तमान दिशानिर्देशों के कारण ट्रेनों में केवल बैठने की अनुमति है, जिससे ट्रेनों की वहन क्षमता कम हो गई है।

डीएमआरसी के पूरे बेड़े के संचालन में लगभग 2,000 कोचों के साथ, उपलब्ध कुल बैठने की क्षमता केवल एक लाख है। जबकि पीक आवर्स में हर दिन मेट्रो स्टेशनों पर दो लाख से ज्यादा यात्री आते हैं। चूंकि बैठने के लिए उपलब्ध यात्रियों की संख्या सभी दो लाख यात्रियों को प्रवेश की अनुमति देने के लिए पर्याप्त नहीं है, इसलिए उन्हें विनियमित करने की आवश्यकता है और परिणामस्वरूप, बैठने के लिए समायोजित किए जा सकने वाले यात्रियों की संख्या की अनुमति है। इससे स्पष्ट रूप से एक बड़ी संख्या में यात्रियों को स्टेशनों के बाहर इंतजार करना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘यात्रियों के प्रवेश को विनियमित करने के लिए, फाटकों की संख्या को सीमित करना आवश्यक है, क्योंकि यदि अधिक गेट खोले जाते हैं, तो ट्रेनों के अंदर यात्रियों की संख्या को संभालना मुश्किल होगा। यही कारण है कि सीमित संख्या में गेट खोले गए हैं। किसी भी मामले में, अधिक गेट खोलने से मदद नहीं मिलेगी क्योंकि ट्रेन के अंदर यात्रियों की संख्या केवल बैठने तक सीमित है। अधिक गेट खोलने से ट्रेनों और स्टेशनों के अंदर केवल भीड़ और सामाजिक दूरी के मानदंडों का उल्लंघन होगा।’’

हाल ही में, व्यस्त समय के दौरान पूरे नेटवर्क से रैंडम घटनाएं भी सामने आई हैं, जिसमें अधीर यात्रियों ने मेट्रो स्टेशनों में घुसने, कतारों को तोड़ने, फाटकों को जबरन खोलने या क्षतिग्रस्त करने, ड्यूटी पर डीएमआरसी और सीआईएसएफ कर्मियों के साथ मारपीट करने और कोविड के उचित व्यवहार का उल्लंघन करने की कोशिश की गई है।

दयाल ने कहा, ‘‘इस तरह के कृत्य न केवल कानून और व्यवस्था के मुद्दों का कारण बनते हैं, बल्कि सह-यात्रियों और मेट्रो अधिकारियों के जीवन को भी जोखिम में डालते हैं, इसके अलावा कोविड के प्रसार का खतरा भी बढ़ जाता है।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘इस प्रकार, मौजूदा प्रतिबंधों के मद्देनजर, जो मेट्रो को केवल सीमित संख्या में यात्रियों की पेशकश करने की अनुमति देता है, डीएमआरसी एक बार फिर आम जनता से अपील करता है कि वे पीक आवर्स के दौरान तभी यात्रा करें जब बहुत आवश्यक हो और जहां तक संभव हो, लंबी कतारों से बचते हुए, व्यस्ततम घंटों की तुलना में बेहतर क्षमता प्राप्त करने के लिए ऑफ-पीक घंटों के दौरान यात्रा की योजना बनाएं।’’

Add comment


Security code
Refresh