Solar Plant: टाटा तमिलनाडु में लगाएगी 3,000 करोड़ रुपये का सोलर प्लांट

Solarplant

नई दिल्लीः टाटा समूह की सौर ऊर्जा इकाई तमिलनाडु सरकार के साथ बातचीत के अंतिम चरण में है क्योंकि उसकी योजना तिरुनेलवेली के पास गंगईकोंडन में एक 4GW एकीकृत सौर फोटोवोल्टिक सेल निर्माण इकाई स्थापित करने की है। तमिलनाडु सरकार के उच्च पदस्थ अधिकारियों ने कहा, ‘‘टाटा द्वारा निवेश लगभग 3,000 करोड़ रुपये का होगा, जिसमें 2,000 स्थानीय लोगों, मुख्य रूप से महिलाओं की रोजगार क्षमता होगी।’’

टाटा समूह द्वारा निवेश प्रतिबद्धता को महत्वपूर्ण के रूप में देखा जाता है, क्योंकि यह राज्य को खुद को एक आकर्षक सौर ऊर्जा निर्माण स्थान के रूप में प्रदर्शित करने में मदद करेगा। इससे दक्षिणी राज्यों में निवेश को बढ़ावा मिलने की भी उम्मीद है, जिन्होंने अब तक बहुत अधिक लोगों को आकर्षित नहीं किया है।

राज्य में पहले से ही विक्रम सोलर है, जिसने जुलाई में ओरगडम में 1.2GW क्षमता वाले पैनल बनाने के लिए अपने कारखाने का उद्घाटन किया था। यूएस-आधारित फर्स्ट सोलर मंगलवार को चेन्नई के पास पिल्लईपक्कम में अपने ग्रीनफील्ड प्लांट के लिए जमीन तोड़ रहा है।

फर्स्ट सोलर 3.3GW की क्षमता के साथ पूरी तरह से लंबवत एकीकृत फोटोवोल्टिक पतली-फिल्म सौर मॉड्यूल निर्माण सुविधा में $684 मिलियन का निवेश कर रहा है और 2023 की दूसरी छमाही में परिचालन शुरू होने की उम्मीद है।

सौर पैनल निर्माण निवेश प्रवाह के लिए अगला गर्म क्षेत्र है क्योंकि अक्षय ऊर्जा के लिए हाथापाई, विशेष रूप से सौर, गति प्राप्त करता है। प्रधान मंत्री द्वारा 2030 तक नवीकरणीय ऊर्जा से देश की 50% ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध होने के साथ और भी अधिक।

अरबपति मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज 60,000 करोड़ रुपये में सौर फोटोवोल्टिक सेल, ग्रीन हाइड्रोजन, बैटरी और ईंधन सेल बनाने के लिए जामनगर में चार कारखानों का निर्माण करेगी।

ये विनिर्माण इकाइयां 100GW सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता के निर्माण के रिलायंस के सपनों को पूरा करेंगी।

3.5ळॅ सौर ऊर्जा के लिए फोटोवोल्टिक कोशिकाओं के निर्माण की योजना के साथ अडानी समूह सौर मोर्चे पर भी आक्रामक हो रहा है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Add comment


Security code
Refresh