ओला करेगी जुलाई में ई-स्कूटर लॉन्च, 400 शहरों में स्थापित किए जायेंगे चार्जिंग स्टेशन

Ola

नई दिल्लीः प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया ने बताया कि ओला इलेक्ट्रिक ने इस साल जुलाई में अपने इलेक्ट्रिक स्कूटर को भारतीय बाजार में उतारने की योजना बनाई है और 400 शहरों में एक लाख चार्जिंग पॉइंट्स शामिल करने के लिए ‘हाइपरचार्ज नेटवर्क’ स्थापित करने पर भी काम कर रही है। कंपनी को ई-स्कूटर के मूल्य निर्धारण जैसे विवरणों का खुलासा करना बाकी है। ओला ने कहा कि भारत में खरीदारों के लिए किफायती बनाने के लिए इसके स्कूटर की कीमत ‘किफायती’ होगी। कंपनी की विदेशी बाजारों में निर्यात करने की योजना भी है।

चार्जिंग नेटवर्क 75 किमी रेंज के लिए 18 मिनट में ओला स्कूटर की बैटरी का 50 प्रतिशत चार्ज करने में सक्षम होगा। पिछले साल, ओला ने तमिलनाडु में अपनी पहली इलेक्ट्रिक स्कूटर फैक्ट्री स्थापित करने के लिए, 2,400 करोड़ के निवेश की घोषणा की थी, जिसमें शुरुआत में 2 मिलियन यूनिट की वार्षिक क्षमता होगी।

उन्होंने कहा, ‘‘इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के लिए, एक मजबूत चार्जिंग नेटवर्क की आवश्यकता होती है। आज, हमारे देश के प्रमुख बुनियादी ढांचे में नेटवर्क चार्जिंग में गैप है। हमारा हाइपरचार्ज नेटवर्क दोपहिया वाहनों के लिए सबसे बड़ा फास्ट चार्ज नेटवर्क होगा। हम 400 शहरों और कस्बों और हम इस नेटवर्क के हिस्से के रूप में 1,00,000 से अधिक चार्जिंग पॉइंट का निर्माण करेंगे। पहले वर्ष में, ओला भारत के 100 शहरों में 5,000 से अधिक चार्जिंग पॉइंट स्थापित कर रही है।

इन ओला चार्जिंग स्टेशनों को अकेले खड़े टावरों के साथ-साथ मॉल, आईटी पार्क, कार्यालय परिसर और कैफे जैसे लोकप्रिय स्थानों में तैनात किया जाएगा, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ओला इलेक्ट्रिक ग्राहकों के पास हमेशा चार्जिंग पॉइंट हो।

ओला इलेक्ट्रिक की वेबसाइट कहती है, ‘‘कई शहरों में लोकप्रिय क्षेत्रों में स्वचालित, बहुस्तरीय चार्जिंग और पार्किंग सिस्टम आपको आसानी से एक जगह मिल जायेंगे।’’ साथ ही, ग्राहक ओला इलेक्ट्रिक ऐप पर वास्तविक समय में चार्जिंग प्रगति की निगरानी करने में सक्षम होंगे, और ऐप के माध्यम से चार्ज करने के लिए मूल रूप से भुगतान करेंगे।

ओला स्कूटर में एक होम चार्जर शामिल होगा, जिसे किसी इंस्टॉलेशन की आवश्यकता नहीं होगी और ग्राहकों को चार्जिंग के लिए एक नियमित दीवार सॉकेट में प्लग करके घर पर अपने वाहन को चार्ज करने की अनुमति देगा।

कोविड महामारी के प्रभाव के बारे में पूछे जाने पर, अग्रवाल ने कहा कि अब तक कोई बड़ा व्यवधान नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘अगले कुछ हफ्तों के दौरान, चीजें बदल सकती हैं, लेकिन अब हमारे पास चार्जिंग नेटवर्क या कारखाने के रोलआउट में कोई बड़ी गड़बड़ी नहीं है।’’ बेहतर है क्योंकि यह अपने आप कुछ घटकों का निर्माण कर रहा है।

हालांकि अग्रवाल ने चार्जिंग बुनियादी ढांचे की स्थापना के लिए किए जा रहे निवेश पर कोई टिप्पणी नहीं की, उन्होंने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण राशि खुद और हमारे सहयोगियों के साथ निवेश करेगा। उन्होंने कहा, ‘‘एक साथ, इकोसिस्टम पाँच वर्षों में पाँच बिलियन अमरीकी डालर से अधिक का निवेश करेगा।’’

(एजेंसी इनपुट्स के साथ)

Add comment


Security code
Refresh