₹200 करोड़ मनी लॉन्ड्रिंग केसः जांच एजेंसी ईडी के सामने पेश हुईं जैकलीन फर्नांडीज

Jacqueline Fernandez

नई दिल्लीः बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडीज कथित ठग सुकेश चंद्रशेखर के खिलाफ 200 करोड़ रुपये से अधिक के मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के सिलसिले में पूछताछ के लिए आज प्रवर्तन निदेशालय (ED) के सामने पेश हुई। जैकलीन फर्नांडीज कम से कम तीन बार पहले अपने सम्मन पर पेश न होने के बाद लगभग 3.30 बजे संघीय एजेंसी के सामने पेश हुईं।

36 वर्षीय फर्नांडीज एक बार अगस्त में संघीय एजेंसी के सामने पेश हुई थी और उसने इस मामले में धन शोधन निवारण अधिनियम (PMLA) के प्रावधानों के तहत अपना बयान दर्ज कराया था।

समझा जा रहा है कि एजेंसी मामले के मुख्य आरोपी सुकेश चंद्रशेखर और उनकी अदाकारा पत्नी लीना मारिया पॉल से उनका सामना कराना चाहती है और उनका दोबारा बयान भी दर्ज करना चाहती है। उन्होंने कहा कि जांच एजेंसी इस मामले में कथित तौर पर फर्नांडीज से जुड़े धन और लेनदेन के कुछ मामलों को समझना चाहती है।

29 साल की एक्ट्रेस और डांसर नोरा फतेही ने इस मामले में पिछले हफ्ते प्रवर्तन निदेशालय में अपना बयान दर्ज कराया था। नोरा फतेही के प्रतिनिधि ने कहा था कि वह इस मामले की पीड़िता रही हैं और गवाह होने के नाते वह जांच में अधिकारियों का सहयोग और मदद कर रही हैं।

सुकेश चंद्रशेखर और लीना पॉल को हाल ही में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किया गया था, जबकि वे पहले से ही एक स्थानीय जेल में बंद थे, जब उन्हें दिल्ली पुलिस ने कुछ लोगों को धोखा देने के आरोप में हिरासत में लिया था, जिसमें फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रमोटर शिविंदर मोहन सिंह की पत्नी अदिति सिंह जैसे कुछ हाई-प्रोफाइल व्यक्ति भी शामिल थे।

अगस्त में, ईडी ने सुकेश चंद्रशेखर के कुछ परिसरों पर छापा मारा था और चेन्नई में समुद्र के सामने एक बंगला, ₹82.5 लाख नकद और एक दर्जन से अधिक लक्जरी कारों को जब्त किया था।

एक बयान में दावा किया गया था कि सुकेश चंद्रशेखर एक ‘ज्ञात ठग’ है और दिल्ली पुलिस द्वारा कथित आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और लगभग 200 करोड़ रुपये की जबरन वसूली के मामले में उसकी जांच की जा रही है।

ईडी ने कहा, ‘‘चंद्रशेखर इस धोखाधड़ी का मास्टरमाइंड है। वह 17 साल की उम्र से अपराध की दुनिया का हिस्सा रहा है। उसके खिलाफ कई प्राथमिकी दर्ज हैं और वर्तमान में वह रोहिणी जेल में बंद है।’’ 

ईडी ने कहा कि जेल में रहने के बावजूद सुकेश चंद्रशेखर ने लोगों को धोखा देना बंद नहीं किया। उन्होंने (जेल में अवैध रूप से खरीदे गए सेलफोन के साथ) तकनीक की मदद से लोगों को ठगने के लिए स्पूफ कॉल किए क्योंकि कॉल किए गए पार्टी के फोन नंबर पर प्रदर्शित नंबर वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के थे।

ईडी ने दावा किया था, ‘‘इन लोगों से (जेल से) बोलते हुए, उन्होंने एक सरकारी अधिकारी होने का दावा किया, जो लोगों से उनकी मदद के बदले एक भारी कीमत की पेशकश कर रहा था।’’

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Add comment


Security code
Refresh