नसीरुद्दीन ने तालिबानी समर्थक मुस्लिमों पर साधा निशाना, कहा- यह चिंता का विषय और खतरनाक भी

Naseeruddin Shah

नई दिल्लीः नसीरुद्दीन शाह, जिन्होंने समय-समय पर अपने मन की बात कही है, चाहे वह सोशल प्लेटफॉर्म पर हो या मीडिया साक्षात्कारों में, उन्होंने साझा किया कि कैसे अफगानिस्तान में तालिबानियों की वापसी पूरे विश्व के लिए चिंता का विषय है। लेकिन, कुछ हिंदुस्तानी मुसलमान इन बर्बर लोगों के लिए जश्न मना रहे हैं जो कि चिंता की बात है और खतरनाक भी है। हर मुस्लिम को खुद से पूछना चाहिए कि क्या उन्हें इस्लाम का आधुनिक स्वरूप चाहिए या फिर कई सदियों पुराने बर्बर रीति रिवाज, जिसका दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पालन किया जाता है।

नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि भारतीय इस्लाम हमेशा से दुनिया के दूसरे हिस्सों के इस्लाम से अलग रहा है। आखिर में उन्होंने कहा कि मैं दुआ करता हूं कि हिंदुस्तानी इस्लाम कभी इस तरह ना बदले कि हम उसे कभी पहचान ना पाए।

अभिनेता ने कहा कि दुनिया के कई हिस्सों में जो इस्लामिक प्रथाएं और रिवाज हैं हिंदुस्तान में उससे काफी अलग मान्यताएं हैं। बता दें कि नसीरुद्दीन शाह की उर्दू में रिकॉर्डेड एक क्लिप सामने आई है जिसमें वो तालिबानियों का स्वागत करने वालों की निंदा करते हुए सुनाई दे रहे हैं।

बता दें कि सोशल मीडिया पर साझा किया गया वीडियो उर्दू भाषा में है जिसमें, अभिनेता इस उत्सव पर सख्ती से सवाल उठा रहा है, जिसने नेटिज़न्स को उन्माद में छोड़ दिया है।  वीडियो के अंत में नसीरुद्दीन कह रहे हैं, ‘‘मैं एक भारतीय मुस्लिम हूं और जैसा कि मिर्जा गालिब ने सालों पहले कहा था, भगवान के साथ मेरा रिश्ता अनौपचारिक है। मुझे राजनीतिक धर्म की जरूरत नहीं है।’’

अफ़ग़ानिस्तान के पंजशीर प्रांत में तालिबान लड़ाकों और अहमद मसूद के नेतृत्व वाले प्रतिरोध मोर्चे की सेनाओं के बीच लड़ाई चल रही है। टोलो न्यूज ने बताया कि तालिबान ने पुष्टि की कि लड़ाई दो दिनों से चल रही है और दोनों पक्षों के लोग हताहत हुए हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान ने पंजशीर पर हमला करने से इनकार करते हुए कहा कि उनकी सेना पर मसूद समर्थकों ने हमला किया और उन्होंने केवल हमले का जवाब दिया।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Add comment


Security code
Refresh