पाक कोर्ट ने JuD चीफ हाफिज सईद को 10 साल जेल की सजा सुनाई

Hafiz Saeed

नई दिल्लीः मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा (JuD) के प्रमुख हाफिज सईद को गुरुवार को पाकिस्तान में आतंकवाद विरोधी अदालत ने दो और आतंकी मामलों में 10 साल की सजा सुनाई। संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित आतंकवादी सईद, जिस पर अमेरिका ने 10 मिलियन अमेरिकी डॉलर का इनाम रखा है, को पिछले साल 17 जुलाई को टेरर फंडिंग में गिरफ्तार किया गया था। उन्हें इस साल फरवरी में आतंकवाद निरोधी अदालत ने दो टेरर फंडिंग में 11 साल की जेल की सजा सुनाई थी। वह लाहौर की उच्च-सुरक्षा वाली कोट लखपत जेल में बंद है।

अदालत के एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया, ‘‘लाहौर के आतंकवाद-रोधी न्यायालय (एटीसी) ने गुरुवार को जमात-उद-दावा के चार नेताओं, जिसमें उसके प्रमुख हाफिज सईद भी शामिल थे, को दो और मामलों में सजा सुनाई गई।’’

सईद और उसके दो करीबी सहयोगियों - जफर इकबाल और याहया मुजाहिद - को 10 और डेढ़ साल की सजा सुनाई गई है, जबकि JuD प्रमुख के बहनोई अब्दुल रहमान मक्की को 6 महीने कैद की सजा सुनाई गई।

अधिकारी ने कहा, ‘‘एटीसी कोर्ट नंबर 1 के जज अरशद हुसैन भुट्टा ने काउंटर-टेररिज्म डिपार्टमेंट द्वारा दायर किए गए मामले नंबर 16/19 और 25/19 की सुनवाई की, जिसमें नसीरुद्दीन नैय्यर और मोहम्मद इमरान फजल गुल एडवोकेट के गवाहों के बयानों के बाद फैसले की घोषणा की गई। 

JuD नेताओं के खिलाफ CTD द्वारा कुल 41 मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें से 24 का फैसला किया गया है, जबकि बाकी एटीसी अदालतों में लंबित हैं। सईद के खिलाफ अब तक चार मामले तय किए गए हैं। सईद के नेतृत्व वाली JuD लश्कर-ए-तैयबा (LeT) का संगठन है, जो 2008 के मुंबई हमले को अंजाम देने के लिए जिम्मेदार है, जिसमें 6 अमेरिकियों सहित 166 लोग मारे गए थे।

आतंकवाद निरोधी अदालत ने जमात उद दावा हाफिज सईद को 10 साल कैद की सजा सुनाई है। कोर्ट ने सईद की संपत्ति जब्त करने का निर्देश दिया है और 1.1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। सईद के दो साथियों जफर इकबाल और याहया मुजाहिद को 10.5 साल जेल की सजा दी गई है जबकि अब्दुल रहमान मक्की क भी 6 महीने जेल की सजा दी गई है।

संयुक्त राष्ट्र ने हाफिज सईद को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर रखा है और अमेरिका ने उस पर एक करोड़ अमेरिकी डॉलर का इनाम रखा है। उसे पिछले साल 17 जुलाई को आतंकी वित्त पोषण के मामलों में गिरफ्तार किया गया था। टेरर फंडिंग के दो मामलों में उसे इस साल फरवरी में आतंकवाद निरोधी अदालत द्वारा 11 साल कैद की सजा सुनाई गई थी। वह लाहौर की उच्च-सुरक्षा वाली कोट लखपत जेल में बंद है।

(With agency input)

Add comment


Security code
Refresh