Pan Masala

व्यंग्यः गुटखा या साजिश?

भैया बहुत गहरी साजिश है। सच बताएं तो इसमें पड़ोस वाले देश का पूरा हाथ मालूम पड़ता है। अच्छे से खोजा जाये तो पक्का कउनो टूलकिट मिल जायेगी। मल्लब हमाये अच्छे खासे कानपुर को बदनाम करने का पूरा प्लान था। मल्लब ग्रीनपार्क में बईठा बेचारा भोला भाला आदमी जरा सा पगुरा क्या दिया गाँव भर में गुहार मार दिए। 

Naturalcalamities

प्राकृतिक आपदाओं के कारण पर्यावरण के नुकसान के लिए आपदा कोष स्थापित करेंः रिपोर्ट

नई दिल्लीः भारतीय स्टेट बैंक की एक रिपोर्ट में प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले आर्थिक नुकसान को पूरा करने के लिए एक ‘राष्ट्रीय आपदा पूल’ का आह्वान किया गया है, जो संख्या में बढ़ रही है। रिपोर्ट में नियामकों और सरकार से प्रत्येक खंड में सुरक्षा अंतर को पाटने के लिए मानकीकृत उत्पादों के साथ आने का आह्वान किया गया है।

Cryptocurrency

क्या है क्रिप्टोकरेंसी? जानिये कैसे करती है ये काम और क्या है इसका उपयोग

क्रिप्टोकरेंसी  एक आभासी या डिजिटल मुद्रा है जिसका उपयोग वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने के लिए किया जा सकता है; यानी किसी भी भौतिक सिक्के या बिल का उपयोग नहीं किया जाता है और सभी लेनदेन ऑनलाइन होते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि ऑनलाइन लेनदेन पूरी तरह से सुरक्षित हैं, इसने मजबूत क्रिप्टोग्राफी के साथ एक ऑनलाइन लेज़र का उपयोग किया। यहां, हमने क्रिप्टोकुरेंसी से संबंधित सभी विवरणों को कवर किया है जैसे कि प्रकार, यह कैसे काम करता है, उपयोग करता है, इसे कैसे खरीदना और स्टोर करना है।

H1

हवन में मंत्र के अंत में स्वाहा का उच्चारण क्यों होता है, जानें क्या हैं स्वाहा?

                                   

हर देवता के निमित्त हविष डालने के लिए आपके उनके मंत्र का उच्चारण करते हैं और आखिर में बोलते हैं स्वाहा। कई बार तो मंत्र का उच्चारण पुरोहित ही करते हैं यजमान सिर्फ स्वाहा बोलते हैं। स्वाहा का उच्चारण बोलना भी पर्याप्त माना जाता है। उस देवता को आपकी तरफ से हविष पहुंच जाती है। यानी स्वाहा में इतनी शक्ति है कि आपके द्वारा अर्पित भेंट उनतक पहुंच जाती है। सिर्फ उन देवता का स्मरण कर स्वाहा बोल देने से ही।
कौन हैं स्वाहा? कोई मंत्र, कोई देवशक्ति या कुछ और। आपने जिन स्वाहा का अनगिनत बार स्मरण किया होगा आज उनकी कहानी भी जानिए।

R1

केंद्र सरकार धर्मांतरण के विरोध में राष्ट्रीय कानून बनाएं !

‘सनातन धर्म’ एक महान धर्म है और विश्‍व में इसका कोई पर्याय नहीं । हमारे इसी धर्म पर ईसाई मिशनरी आणि मुसलमान धर्मांतरण के माध्यम से आक्रमण कर रहे हैं । इस धर्मांतरण के विरोध में राष्ट्रव्यापी आंदोलन निर्माण करना चाहिए, साथ ही इस देश को सुरक्षित करने के लिए सरकार को धर्मांतरण के विरोध में राष्ट्रीय कानून बनाएं और किसी भी प्रकार का धर्मांतरण अवैध घोषित किया जाए, ऐसी मांग इंदौर के श्री अखंडानंद आदिवासी गुरूकुल आश्रम के महामंडलेश्‍वर आचार्य स्वामी श्री प्रणवानंद सरस्वतीजी महाराज ने की । हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से ‘राष्ट्रव्यापी धर्मांतरण बंदी कानून बने !’ इस विषय पर आयोजित ‘ऑनलाइन’ विशेष संवाद में वे बोल रहे थे ।