Covid Recovery

Post Covid: इम्यूनिटी बढ़ानी है तो, रखें इन बातों का खास ख्याल

नई दिल्लीः भारत सरकार राज्य/केंद्रशासित प्रदेश सरकारों के साथ निकट समन्वय और सहयोग से देश में कोविड-19 को लेकर उचित प्रतिक्रिया और उपचार प्रबंधन का नेतृत्व कर रही है। कोविड-19 से बचाव, उसकी रोकथाम और उपचार प्रबंधन के लिए कई रणनीतिक और सुविचारित उपाय किए गए हैं। यह पाया गया है कि गंभीर कोविड-19 बीमारी के बाद भी ठीक हो चुके मरीजों में थकान, शरीर में दर्द, खांसी, गले में खराश, सांस लेने में कठिनाई सहित विभिन्न प्रकार के संकेत और लक्षण दिख सकते हैं। कोविड बीमारी के अधिक गंभीर रूप से पीड़ित और पहले से ही बीमारी चल रहे लोगों के ठीक होने की अवधि के लंबा होने की संभावना है।

Rapid Test

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए केन्द्र हुआ सख्त, कहा- कोई भी पॉजिटिव केस परीक्षण से न बचे

नई दिल्लीः केन्‍द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को ज्ञात हुआ है कि कुछ बड़े राज्य रैपिड एंटीजन टेस्ट (आरएटी) द्वारा परीक्षण किए गए लक्षणात्‍मक निगेटिव मामलों के लिए आरटी-पीसीटी परीक्षण का अनुपालन नहीं कर रहे हैं।

आईसीएमआर के दिशा-निर्देशों के साथ-साथ केन्‍द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह स्पष्ट रूप से कहा है कि निम्नलिखित विशिष्ट श्रेणियों के व्यक्तियों का आरटी-पीसीआर परीक्षणों के माध्यम से दोबारा परीक्षण करना आवश्‍यक है:

Covid Vaccine

कोरोना वैक्सीन Sputnik V के उत्पादन में, भारत अदा करेगा महत्त्वपूर्ण भूमिका

नई दिल्लीः दुनियाभर में कोरोना वैक्सीन का इंतजार करने वाले लाखों लोगों को रूस की स्पुतनिक वी (Sputnik V) वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार है। हालांकि इस वैक्सीन का इसी सप्ताह तीसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल शुरू होने जा रहा है। रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, रूसी क्षेत्रों में दवा की आपूर्ति जल्द ही होने की उम्मीद है। रूस अपनी वैक्सीन के लिए भारत से सहयोग चाहता है। भारत भी इसे अपने लिए फायदे का सौदा मान रहा है। भारत के सहयोग से रूस इस वैक्सीन का ज्यादा से ज्यादा उत्पादन कर पाएगा।

Harsh Vardhan

‘ईसंजीवनी’ टेलीमेडिसिन सेवा ने 3 लाख टेली-कंसल्‍टेशन का आंकड़ा छुआ

नई दिल्लीः स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के प्‍लेटफॉर्म ‘ईसंजीवनी’ टेलीमेडिसिन सेवा के तहत अब 3 लाख टेली-कंसल्‍टेशन पूरे हो गए हैं। इस सेवा के तहत टेली-कंसल्‍टेशन की सुविधा मुहैया कराई है। केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने इस प्‍लेटफॉर्म के तहत 1.5 लाख टेली-कंसल्‍टेशन पूरे होने पर 9 अगस्‍त को आयोजित की गई एक बैठक की अध्‍यक्षता की थी। इस प्‍लेटफॉर्म ने उस समय से लेकर अब तक एक माह के भीतर ही टेली-कंसल्‍टेशन के आंकड़े को सफलतापूर्वक दोगुना कर लिया है। इनमें से 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन तो पिछले 20 दिनों में ही पूरे हो गए हैं। इस प्‍लेटफॉर्म ने प्रथम 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन 23 जुलाई, 2020 को पूरे किए थे और उसके बाद के 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन 26 दिनों के भीतर ही 18 अगस्‍त को पूरे हो गए थे।

Gehlot

गहलोत ने 24x7 टोल-फ्री मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पुनर्वास हेल्पलाइन 'किरन' की शुरूआत की

नई दिल्लीः केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने आज वर्चुअल मोड वेबकास्ट के माध्यम से सातों दिन चौबीसों घंटे टोल-फ्री मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पुनर्वास हेल्पलाइन किरन- (1800-599-0019) की शुरूआत की। यह हेल्‍पलाइन मानसिक रूप से बीमार व्‍यक्तियों को राहत और मदद उपलब्‍ध कराएगी। इस हेल्‍पलाइन को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के दिव्‍यांगताग्रस्‍त व्‍यक्तियों के सशक्तिकरण विभाग ने विशेषरूप से कोविड-19 महामारी के कारण बढ़ती हुई मानसिक बीमारी की घटनाओं को ध्‍यान में रखते हुए शुरू किया है। श्री गहलोत ने इस हेल्पलाइन के बारे में पोस्टर, ब्रोशर और संसाधन पुस्तिका भी जारी की। दिव्‍यांगताग्रस्‍त व्‍यक्तियों के सशक्तिकरण विभाग की सचिव श्रीमती शकुंतला डी. गामलिन भी इस अवसर पर उपस्थित थीं। संयुक्‍त सचिव श्री प्रबोध सेठ ने इस हेल्पलाइन के बारे में एक विस्तृत पीपीटी प्रस्तुत की।