इन तारीखों पर लगेगा चारधाम यात्रा पर विराम, जानें पूरा शेड्यूल

Kedarnathbadrinath

नई दिल्लीः विजयदशमी के शुभ अवसर पर, चारों धामों के कपाट बंद करने का शुभ मुहूर्त तय किया गया है। कोरोना काल के प्रकोप के दौरान भी केदारनाथ धाम (Kedarnath Temple) में भक्तों का काफी आना-जाना लगा रहा। हालांकि अब मंदिर बंद होने में कुछ दिन शेष रह गए हैं। बता दें कि चारों धामों के कपाट शीतकाल में भारी बर्फबारी के कारण बंद कर दिए जाते हैं। गंगोत्री धाम (Gangotri Temple) के कपाट बंद होने के बाद श्रद्धालु मुखीमठ (मुखवा) में अपने शीतकालीन प्रवास के लिए विदेशों में माँ गंगा के दर्शन कर सकेंगे।

बता दें कि चारधाम के पवित्र तीर्थस्थल हर साल अप्रैल-मई में ग्रीष्म ऋतु के आगमन के साथ खुलते हैं और सर्दियों के महीनों अक्टूबर-नवंबर की शुरुआत के साथ बंद हो जाते हैं। हालांकि इस बार कोरोना के कारण लगे लाॅकडाउन के चलते खोलने के समय में थोड़ा परिवर्तन किया गया था। चार धाम मंदिर, केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री, अप्रैल-मई से अक्टूबर-नवंबर तक तीर्थयात्रियों के लिए खुले रहते हैं। सभी मंदिर सर्दियों में बंद भारी बर्फबारी के कारण बंद कर दिए जाते हैं। जानें, कब होंगे चारों धामों के कपाट बंदः-

बद्रीनाथ धाम (Badrinath Dham)
बद्रीनाथ धाम के कपाट तीर्थयात्रियों के लिए 15 मई 2020 (लॉकडाउन के कारण परिवर्तन) को खोला गया था और 19 नवंबर 2020 को बंद कर दिया जाएगा। बद्रीनाथ की शुरुआती तारीख बसंत पंचमी पर तय की जाती है और विजयदशमी पर समापन की तारीखें घोषित की गईं। 

केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham)
केदारनाथ मंदिर के द्वार भाई दूज के शुभ दिन पर बंद कर दिए जायेंगे। हर साल महाशिवरात्रि के दिन केदारनाथ के उद्घाटन की तारीख घोषित की जाती है। केदारनाथ मंदिर की बंद होने की तारीख 16 नवंबर, 2020 को तय की गई है। बता दें कि केदारनाथ मंदिर के द्वार सर्दियों में बंद कर दिए जाते हैं। इस वर्ष केदारनाथ मंदिर को 29 अप्रैल 2020 को खोला गया था। 

यमुनोत्री धाम (Yamunotri Dham)
यमुनोत्री धाम के द्वार प्रत्येक वर्ष अक्षय तृतीया के अवसर पर खोले जाते हैं। इस साल यमुनोत्री धाम के कपाट तीर्थयात्रियों के लिए भैया दूज के दिन यानि 16 नवंबर 2020 को बंद कर दिए जायेंगे। इस साल यमुनोत्री मंदिर 26 अप्रैल 2020 को खोला गया था। 

गंगोत्री धाम (Gangotri Dham)
गंगोत्री धाम प्रत्येक वर्ष अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर खुलता है। गंगोत्री मंदिर 26 अप्रैल 2020 को खोला गया था और दिवाली के अगले दिन बंद हो जाएगा। इस वर्ष गंगोत्री मंदिर 15 नवंबर को तीर्थयात्रियों के लिए बंद कर दिया जाएगा।

4 नवंबर को तुंगनाथ (Tungnath) के द्वार होंगे बंद
मार्कंडेय मंदिर मक्कुमठ में, तीसरे केदार भगवान तुंगनाथ के दरवाजे बंद करने की तारीख तय की गई थी। 4 नवंबर को, तुंगनाथ के दरवाजे बंद करने के बाद, डोली एक रात के आराम के लिए चोपता पहुंचेगी। 5 नवंबर को भानकुं और 6 नवंबर को शीतकालीन सिंहासन मकुमठ में बैठेगा।

हर रोज 3000 श्रद्धालु कर सकते हैं दर्शन
इस बार उत्तराखंड के प्रसिद्ध धाम, बदरीनाथ और केदारनाथ के दर्शन की यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं की संख्या को बढ़ाया गया है। अब हर रोज 3,000 यात्री कर मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के आदेश के अनुसार, गंगोत्री धाम के लिए श्रद्धालुओं की अधिकतम संख्या 900 और यमुनोत्री धाम के लिए 700 कर दी गई है। हेलीकॉप्टर सेवा के इस्तेमाल से इन धामों का दर्शन करने आने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या इसमें शामिल नहीं है।

Add comment


Security code
Refresh