आज है नाग पंचमी, जानें कौन सी राशियां होंगी प्रभावित

Nag Panchami

सावन के पवित्र महीने में मनाया जाने वाला नाग पंचमी का त्यौहार नाग देवता की पूजा के लिए समर्पित है। द्रिक पंचांग के अनुसार, नाग पंचमी श्रावण मास के चन्द्र मास में उज्ज्वल अर्ध (शुक्ल पक्ष) के पांचवें दिन पर पड़ती है, जो जुलाई और अगस्त के महीने में होती है। यह हरियाली तीज के दो दिन बाद दिन मनाया जाता है।

हालांकि, भारत के कुछ राज्यों में जैसे गुजरात में, नाग पंचमी 8 अगस्त को मनाई जाएगी। आंध्र प्रदेश में नाग चतुर्थी या नागुल चैविती को दीपावली के ठीक बाद मनाया जाता है और तमिलनाडु में छह दिनों तक चलने वाले सोहराय समरोह के उत्सव के साथ मेल खाता है। 

आजतक के मुताबिक, नाग पंचमी का त्योहार शनिवार, 25 जुलाई को मनाया जा रहा है। इस साल नाग पंचमी का त्यौहार काफी खास है, क्योंकि यह श्रावण मास में पड़ा है। कई ज्योतिषाचार्यों का दावा है कि नाग पंचमी पर इस साल शिव योग बन रहा है और यह योग 20 साल बाद आया है। इससे पहले नाग पंचमी पर शिव योग साल 2000 में बना था। पंचमी की तिथि को लक्ष्मी तिथि भी कहा जाता है, इसलिए यह शिव योग 5 राशि वालों को धनवान बना सकता है।

किस राशि पर क्या होगा प्रभाव

मेष- मेष राशि वालों के लिए नाग पंचमी पर बन रहा यह महासंयोग बेहद शुभ है। अनायास रूप से धन की प्राप्ति होगी. बिगड़े काम सुधरेंगे। कर्ज में दिया हुआ रुपया-पैसा वापस लौट सकता है। शिवलिंग और नाग देवता को शहद अर्पित करने से अधिक लाभ होगा।

वृषभ- नाग पंचमी पर बने शिव योग से वृषभ राशि वालों का वाणी दोष दूर होगा. वाणी में शक्ति आने से रिश्ते सुधरेंगे। आपकी जुबान से निकली बात सच होंगी। साथ ही धन जमा करने की योजनाएं प्रबल होंगी। निवेश के मामले में भी बड़ा लाभ होने की पूरी संभावना है। दूध में बताशा मिलाकर शिवलिंग और नाग देव को चढ़ाने से लाभ बढ़ेगा।

मिथुन- मिथुन राशि में राहु बैठे हुए हैं। केतु और गुरु की दृष्टि भी है। विदेश से धन प्राप्ति के योग बन रहे हैं। रुका हुआ धन वापस मिल सकता है। लंबे वक्त से अटके काम बनेंगे। बेलपत्र की माला पर लाल सिंदूर लगाकर शिवलिंग और नाग देव को चढ़ाने से दिन दोगुनी रात चैगुनी तरक्की करेंगे।

कर्क- कर्क राशि के 12वें भाव में राहु है। नाग पंचमी पर शिव योग जीवन में चल रही दिक्कतों को दूर करेगा। चैन की नींद ले सकेंगे। पिछले काफी समय से बढ़ रहे खर्चों पर लगाम लगेगी। ऋण दोष और शत्रुओं से संभलकर रहना होगा। सावन के महीने में शिवलिंग और नाग देव को आम का रस अर्पित करने से लाभ होगा।

सिंह- सिंह राशि वालों की कुंडली में भी धन लाभ के योग अच्छे योग बन रहे हैं। यह योग मकान, दुकान या प्रॉपर्टी में निवेश का शुभ मुहूर्त लेकर आया है। शिवलिंग और नाग देवता को सफेद फूल और मिठाई अर्पित करने से लाभ हो सकता है।

कन्या- कन्या राशि वालों को वाहन का सुख मिलता दिखाई दे रहा है। घर में अच्छा माहौल रहेगा। छोटी-मोटी यात्राएं भी आप इस दौरान कर सकते हैं। हालांकि धन लाभ के मामले में स्थिति सामान्य रहने वाली है। हरे धागे में फल बांधकर नाग-नागिन को चढ़ाने से सफलता मिलेगी।

तुला- तुला राशि वालों के लिए राहु और केतु दोनों बड़े लाभप्रद हैं। केतु ना सिर्फ आपको धन देगा, बल्कि नौकरी और व्यापार में आ रही मुश्किलों को दूर भी करेगा। जल में काले तिल घोलकर शिवलिंग और नाग देवता का अभिषेक करने से धन लाभ की स्थिति मजबूत होगी।

वृश्चिक- वृश्चिक राशि से साढ़े साती जा चुकी है। इस राशि के लोगों का अच्छा समय आने वाला है। नौकरी, व्यापार में सफलता के योग बन रहे हैं। धन के मामले में भी लाभ हो सकता है। शिवलिंग और नाग देवता को शहद अर्पित करने से अधिक लाभ होगा।

धनु- धनु राशि पर स्वराशि का गुरु और केतु बैठा हुआ है। इस राशि वालों के लिए तो यह संयोग और भी ज्यादा खास रहेगा। धन की प्राप्ति होगी। वित्तीय योजनाएं लंबे समय तक लाभ देंगी। पीले धागे में चांदी के नाग-नागिन बांधकर चढ़ाएं। साथ ही गुड़ अर्पित करने से लाभ होगा।

मकर- मकर राशि वालों के लिए भी यह संयोग अच्छा है, लेकिन इस राशि में साढ़े साती चल रही है। धन के मामले में स्थिति सामान्य ही रहने वाली है। काले वस्त्र में जौं बांधकर चढ़ाने से आपके संकट कम हो सकते हैं।

कुंभ- कुंभ राशि में भी शनि की साढ़े साती चल रही है। कष्टों से निवारण होगा। सेहत अच्छी हो जाएगी। क्रोध में कमी आएगी। रिश्तों में सुधार होगा। धन के मामले में स्थिति सामान्य ही रहेगी। ठंडे पानी में सेब या किसी दूसरे फल का रस मिलकर अभिषेक करने से लाभ होगा।

मीन- मीन राशि में धन लाभ के योग बन रहे हैं। शादी-विवाह के मामले में भी यह योग काफी फलदायी नजर आ रहा है। आम के रस में बताशे मिलाकर शिवलिंग और नाग देवता का अभिषेक करने से लाभ मिलेगा।

नाग पंचमी पर भूलकर भी न करें ये काम

  • इस दिन भूमि की खुदाई करना या खेत में हल चलाना बहुत अशुभ माना जाता है। इसलिए ऐसा करने से सख्त परहेज करना चाहिए। इसके अलावा साग भी नहीं तोड़ना चाहिए।
  • नाग पंचमी के दिन नुकीली और धारदार वस्तुओं के इस्तेमाल से बचना चाहिए। मुख्य रूप से सूई-धागे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ऐसा करना अशुभ माना जाता है।
  • चूल्हे पर खाना बनाने के लिए तवा और लोहे की कढ़ाही का उपयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से नाग देवता को कष्ट हो सकता है।
  • नाग पंचमी के दिन किसी भी इंसान के लिए अपने मुंह से जहर ना उगलें। यानी किसी से लड़ाई-झगड़ा या गलत शब्द बोलने से बचना चाहिए।
  • जिन लोगों की कुंडली में राहु-केतु भारी हैं, उन्हें इस दिन विशेष रूप से नाग देवता की पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से कुंडली में आ रही दिक्कतों को दूर किया जा सकता है।
  • नाग पंचमी के दिन मांस या मदिरा-पान का भी सख्ती से परहेज करना चाहिए। भगवान शिव के मंत्रों का जाप करने से लाभ हो सकता है।
  • नाग पंचमी के दिन इस बात का ध्यान रखें कि शिवलिंग या नाग देव को दूध पीतल के लोटे से चढ़ाएं। जबकि जल चढ़ाने के लिए तांबे के लोटे का इस्तेमाल करें।
  • यह बात याद रखें कि हिंदू धर्म में नाग देवता के दूध से अभिषेक का महत्व बताया गया है। इसलिए नाग पंचमी पर दूध से अभिषेक कर सकते हैं, लेकिन दूध पिला नहीं सकते। इसके पीछे कई वैज्ञानिक तर्क भी दिए जाते हैं।