6 जुलाई से शुरू हो रहा सावन, जानें इस मास की महिमा

Shiv

सावन का महीना 6 जुलाई यानि आने वाले सोमवार से शुरू हो रहा है, जो 3 अगस्त, सोमवार को समाप्त होगा। सावन के पर्व को लेकर मंदिरों में तैयारियां शुरू हो गईं हैं। लेकिन इस बार लाॅकडाउन की वजह से भक्तों को जलाभिषेक घर पर ही करना पड़ेगा। इस बार सावन में पांच सोमवार होंगे। हिंदू पंचांग के अनुसार चौथा महीना श्रावण (सावन) का होता है। 

पंडित विद्यासागर शर्मा ने बताया कि एक जुलाई को देवशयनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु क्षीर सागर में निंद्रा में चले गए हैं। इसके बाद देवोत्थान एकादशी 25 नवंबर को निंद्रा से जागेंगे। मान्यता है कि इस दौरान भगवान शिव सृष्टि का संचालन करेंगे। सावन के महीने में भगवान शिव और विष्णु की आराधना बहुत फलदायी मानी जाती है। पूरे श्रावण मास में 6, 13, 20, 27 जुलाई और 3 अगस्त को सावन के सोमवार हैं। लोग घरों पर ही जलाभिषेक कर पुण्यलाभ लें। 

परेशानियों से छुटकारा
ऐसा माना जाता है कि सावन के सोमवार को भगवान शिव की आराधना और जलाभिषेक से विशेष लाभ मिलता है। परेशानियों से छुटकारा प्राप्त होता है।

अनिष्ट होंगे दूर 
6 जुलाई को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र, वैधृति योग, कौलव करण, प्रतिपदा तिथि रहेगी। यह अभिष्ट फलदायक होगा। मान्यता है कि इस दिन साधना करने से सारे अनिष्ट दूर हो जाते हैं।

विवाह के योग बनेंगे
13 जुलाई को रेवती नक्षत्र है। इस दिन भगवान शिव का गन्ने के रस से अभिषेक करें। जिनका विवाह नहीं हो रहा है, वे इस दिन भगवान शिव की आराधना करें। 

सफलता की प्राप्ति
20 जुलाई को पुनर्वसु नक्षत्र में सावन का तीसरा सोमवार पड़ेगा। भगवान शिव को इस दिन दूध और केसर से अभिषेक करें। जरूरतमंदों की मदद करें, निश्चित तौर पर आपको सफलता प्राप्त होगी।

प्रतिष्ठा, मान में होगी वृद्धि
27 जुलाई को सुबह 7.10 बजे तक सप्तमी है, फिर अष्टमी लग जाएगी। चित्रा नक्षत्र, साध्य योग, वाणिज्य करण विद्यमान रहेंगे। इस दिन सूर्य और विश्वकर्मा पूजा से राजनीतिक उत्थान, उन्नति, यश, मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। भगवान शिव को जलाभिषेक करना न भूलें।

स्वास्थ्य लाभ मिलेगा
3 अगस्त को पूर्णिमा तिथि, उत्तराषाढ़ नक्षत्र, प्रीति और आयुष्मान योग रहेगा। इस दिन शिव पूजा के साथ सत्यनारायण व ब्राह्मण की पूजा से सम्मान व स्वास्थ्य लाभ मिलेगा। जरूरतमंदों को भोजन, वस्त्र, अन्नदान करें लाभ मिलेगा।

Add comment


Security code
Refresh