5 लाख लोगो ने प्राकर्तिक चिकित्सक फेसबुक पर लाइव देखी

Tyagi

24 राज्यो में 5 लाख से अधिक लोगो ने आज फेसबुक वार्ता में सूर्य फाउंडेशन व आई एन ओ के द्वारा आयोजित प्रोगाम में भाग लिया। प्रकति और मानव का सम्बन्ध प्राकर्तिक चिकित्सा की विधिया एवं आहार पर हम कैसे प्राकर्तिक चिकित्सा एवं आहार द्वारा शरीर की जीवनी शक्ति बढ़ाकर स्वस्थ रह सकते है। 

करोना महामारी को जितने व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने हेतु मान्य प्रधानमंत्री जी ने अपने सम्बोधन में आयुष चिकित्सा को अपनाने की सलाह दी। प्रधानमंत्री के आह्वान पर संस्था ने 18 अप्रैल से 3 मई 2020 तक प्राकर्तिक चिकित्सा योग का लाभ व ज्ञान घर घर तक पहुंचाने हेतु फेसबुक लाइव द्वारा स्वास्थ्य जागरूकता बढ़ाने का संकल्प लिया। इस दौरान देश विदेश के योग प्राकर्तिक चिकित्सा , आध्यात्मिक कला, संस्कृति व फिल्म जगत की हस्तियों ने जागरूक करने का कार्य किया। फेसबुक वार्ता के दौरान प्रतिदिन हज़ारों लोगों ने इस श्रृंखला का लाभ उठाया। इस व्याख्यान में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से 10 लाख से अधिक लोग जुड़े लोगो के इस उत्साह व मांग को देखते हुए आईएनओ के अध्यक्ष अनंत बिरादर और सचिव डॉ संजय त्यागी ने इस अभियान के समापन पर मेम्बरशिप की घोषणा की। अब देश विदेश से कोई भी व्यक्ति घर बैठे आईएनओ का सदस्य बन सकता है व नैचरोपथी अभ्यान का सदस्य बन सकता है और भारत चिकित्सा पद्धति योग नैचरोपथी की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। 

इस अवसर पर अनंत बिरादर ने कहा कि अब सारी दुनिया कोरोना संक्रमण  से जूझ रही है। ऐसे में भारत ही पूरे विश्व को आयुष पद्धति के माध्यम से समाधान दे सकता है। हम योग चिकित्सा को अपनाते है तो हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सकती है क्योंकि नेचरोपैथी में व्यक्ति को प्रकर्ति के सिद्धांत के अनुसार सिखाया जाता है। इस चिकित्सा में पंच महाभूत व प्राकर्तिक आहार से बिना किसी दवा के इलाज किया जाता है। इस चिकित्सा का प्रयोग राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने भी किया था। 
कोरोना संक्रमण की इस जग में सूर्य फॉउन्डेशन व आईएनओ द्वारा की जा रही है इस सकारात्मक योजना की केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्ष वर्धन तथा आयुष मंत्री श्री नायक एवं अन्य महानुभावो ने प्रशंसा की।

 

Add comment


Security code
Refresh