Eclipse

कार्तिक पूर्णिमा के दिन अंतिम चंद्रग्रहण का है खास महत्व, आइये जानते हैं...

आज 30 नवंबर को चंद्रग्रहण लगने जा रहा है। ज्योतिषियों का कहना है कि यह साल का अंतिम चंद्रग्रहण होगा। ये ग्रहण कार्तिक पूर्णिमा को उपछाया ’चंद्रग्रहण होगा। विज्ञान में ग्रहण को एक खगोलीय घटना के रूप में देखा जाता है। हालांकि चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। कार्तिक पूर्णिमा के दिन लगे इस चंद्र ग्रहण ने इसका महत्व और भी बढ़ा दिया है। इसके साथ ही आज कार्तिक पूर्णिमा के दिन स्वार्थसिद्धि योग भी बन रहा है जो कार्तिक पूर्णिमा पर बहुत खास है। आइए जानते हैं कार्तिक पूर्णिमा और चंद्र ग्रहण से जुड़ी ये खास बातें।

LE

कल होगा 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण, जानें ग्रहण से जुड़ी सारी जानकारियां...

30 नवंबर यानि कल चंद्रग्रहण लगने जा रहा है। ज्योतिषियों का कहना है कि यह साल का अंतिम चंद्रग्रहण होगा। ये ग्रहण कार्तिक पूर्णिमा को उपछाया ’चंद्रग्रहण होगा। विज्ञान में ग्रहण को एक खगोलीय घटना के रूप में देखा जाता है। जबकि धार्मिक और ज्योतिष की दृष्टि से ग्रहण को अशुभ माना जाता है। ग्रहण में लगने वाला सूतक का विचार किया जाता है। आइए जानते हैं आखिरी चंद्रग्रहण से जुड़ी जानकारियांः-

Basil

सर्दियों में तुलसी को सूखने से बचाना है, तो अपनाएं ये उपाय

हिन्दु धर्म में तुलसी का विशेष स्थान है। ज्यादातर हिंदू परिवारों में तुलसी की पूजा की जाती है। इसे सुख और कल्याण के तौर पर देखा जाता है लेकिन पौराणिक महत्व से अलग तुलसी एक जानी-मानी औषधि भी है, जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों में किया जाता है। सर्दी-खांसी से लेकर कई बड़ी और भयंकर बीमारियों में भी एक कारगर औषधि है। तुलसी एक ग्रीष्मकालीन पौधा है और इसे गर्मी पसंद है। आप उन्हें धूप वाले क्षेत्र में लगा सकते हैं। इसलिए सर्दियों में इस पौधे को देखभाल की जरूरत होती है। सर्दियों में पाला पड़ने पर तुलसी कुंभलाने लगती हैं और इसके पत्ते सूख जाते हैं। घर पर तुलसी के सूखने को अशुभ माना जाता है।आइए, जानते हैं कि क्या करें, जिससे घर पर रखी तुलसी न सूखे। 

Igas

उत्तराखंड में दिवाली के 11 दिन बाद मनाया जाता है ईगास का जश्न

उत्तराखंड आज एक मुख्य त्यौहार ईगास मनाया जा रहा है, जो बग्वाल (दीपावली) के ठीक 11 दिन बाद आता है। दरअसल, ज्योति पर्व, दीपावली का त्योहार आज के शीर्ष पर पहुंचता है, इसलिए त्योहारों की इस श्रृंखला को ईगास-बग्वाल नाम दिया गया था। यह त्यौहार दीवाली के रूप में भी मनाया जाता है इसलिए इसे ‘चोटी दिवाली’ भी कहा जाता है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, जब श्रीराम अयोध्या से वनवास लौटे, तो लोगों ने दीप जलाकर कार्तिक कृष्ण अमावस्या का स्वागत किया। हालांकि, दीपावली के ग्यारह दिन बाद कार्तिक शुक्ल एकादशी को राम के गढ़वाल क्षेत्र में लौटने की बात समझ में आई। इसीलिए ग्रामीणों ने खुशी जाहिर की और एकादशी के दिन दिवाली मनाई।

Cal

दिसंबर से होने जा रहे हैं बड़े बदलाव, जो डालेंगे आपकी जिंदगी पर सीधा असर

नई दिल्लीः 1 दिसंबर, 2020 से देश में बड़े बदलाव होने जा रहे हैं। इन बदलावों का आपकी जेब पर सीधा असर पड़ सकता है। नए नियमों से एक ओर जहां आपको राहत मिलेगी, वहीं अगर आपने कुछ बातों का ध्यान नहीं रखा तो आपको नुकसान भी सहना पड़ सकता है। खासतौर पर लाइव इंश्योरेंस (जीवन बीमा) और बैंक ट्रांजेक्शन (बैंक संबंधी लेन देन) में किए जा रहे हैं बदलाव। यदि आप नई पॉलिसी खरीदने का मन बना रहे हैं तो 1 दिसंबर तक रुक जाएं। हालांकि प्रीमियम थोड़ा बढ़ जायेगा, लेकिन उसके साथ सुविधाएं भी बढ़ जाएंगी। इसी तरह, ऑनलान ट्रांजेक्शन को लेकर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) 24x7x365 उपलब्ध करने का ऐलान करने जा रहा है। गैस सिलेंडर के दामों में हो सकती है बढ़ोत्तरी और रेलवे द्वारा चलाई जायेंगी नई ट्रेने। आइए जानते हैं 1 दिसंबर से क्या महत्वपूर्ण बदलाव होने जा रहे हैं।