Vikas

Vikas Dubey encounter: Is it murder to save the biggies?

New Delhi: In less than 24 hours after he surrendered to the Madhya Pradesh Police outside the Mahakal temple in Ujjain, gangster and cop killer Vikas Dubey has been silenced after being gunned down in an encounter near Barra on the Kanpur highway early on Friday.

The freak incident reminds one of the adage: Dead men tell no tales. Here are a few points to ponder in connection with the encounter:

Akhilesh

दरअसल ये कार नहीं पलटी, सरकार पलटने से बचाई गयी हैः अखिलेश यादव

लखनऊः कानपुर का कुख्यात गैंगस्टर विकास दूबे का एनकाउंटर पर अखिलेश यादव ने ट्वीट कर योगी सरकार को सवालों के घेरे में ला दिया है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि सरकार पलटने के डर से ये कांड हुआ है। इससे पहले भी उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि ‘कानपुर-कांड’ का मुख्य अपराधी पुलिस की हिरासत में है। अगर ये सच है तो सरकार साफ करे कि ये आत्मसमर्पण है या गिरफ्तारी। साथ ही उसके मोबाइल की जानकारी सार्वजनिक करे, जिससे सच्ची मिलीभगत का भंडाफोड़ हो सके।

Encounter

हिस्ट्रीशीटर विकास दूबे मारा गया, कार दुर्घटना के बाद की थी भागने की कोशिश

लखनऊः कानपुर का हिस्ट्रीशीटर विकास दूबे का एनकाउंटर कर दिया गया है। जैसा की आशंका जताई जा रही थी कि विकास दूबे बचेगा नहीं, वही हुआ। आखिर 8 पुलिसकर्मियों की मौत का बदला यूपी पुलिस ने ले ही लिया। हालांकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है।

जानकारी के मुताबिक यूपी एसटीएफ की कार का रास्ते में एक्सिडेंट हो गया। ये वही कारवां है, जिसमें मध्य प्रदेश से गिरफ्तार मोस्टवांटेड अपराधी विकास दुबे को लाया जा रहा था। बर्रा थाना क्षेत्र के पास की ये घटना है। दुर्घटना में कार पलट गई, बताया गया है कि इसके बाद विकास दुबे ने भागने की कोशिश की और मुठभेड़ में मारा गया। हालांकि, इसकी अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

Vikasdube

Breaking: विकास दूबे उज्जैन में गिरफ्तार

नई दिल्लीः कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले के मुख्य आरोपी विकास दूबे को उज्जैन में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

आशीष सिंह, उज्जैन कलेक्टर ने न्यूज एजेंसी को बताया, ‘‘विकास दुबे उस समय उज्जैन महाकाल मंदिर जा रहा था, जब उनकी पहचान सुरक्षाकर्मियों ने की। तुरंत  पुलिस को सूचित किया गया। कड़ी पूछताछ के बाद उसने अपनी पहचान कबूल की। उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ जारी है।’’ 

VK

विकास दूबे के पुलिस नेटवर्क का पता चला, एनकाउंटर से पहले दी सूचना

लखनऊः कानपुर के बिकेरू में हुए एनकाउंटर में 8 पुलिसकर्मियों की मौत के बाद से ही इस ऑपरेशन पर पहले ही कई सवाल खड़े हो रहे थे। इसमें संदेह जताया जा रहा था कि किसी पुलिसकर्मी ने ही विकास दूबे को रेड की सूचना दी थी। बाद में ये इस बात का खुलासा तब हुआ जब उसके साथी दयाशंकर अग्निहोत्री को पुलिस ने पकड़ा, तब उसने खुलासा किया था कि पुलिस थाने से किसी का फोन आया था। तब से पुलिस अधिकारियों ने पुलिसकर्मी विनय तिवारी और केके शर्मा पर शक जताया था, जो अब पुख्ता हो गया है।