माओवादियों के विकास विरोधी चेहरे को उजागर करने के लिए, बस्तर पुलिस ने छेड़ी एंटी-प्रोपेगेंडा वाॅर

Cartoon

बस्तरः छत्तीसगढ़ राज्य गठन के पश्चात् जनसहयोग से नक्सल आतंक को समाप्त करना बस्तर पुलिस की सर्वोत्तम प्राथमिकता रहा है। कुछ महीनों से बस्तर स्थानीय पुलिस बल एवं केन्द्रीय सुरक्षाबलों द्वारा माओवादियों के आतंक के विरूद्ध यह लड़ाई निर्णायक मोड़ पर पहुंच गई है। शासन की माओवादियों की हिंसा के विरूद्ध ‘‘विश्वास-विकास-सुरक्षा’’ के त्रिकोणीय कार्ययोजना का सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहा है। 

पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज सुंदरराज पी. का मानना है कि नक्सलियों के विरूद्ध अंदरूनी क्षेत्र में किया जा रहा प्रभावी नक्सल विरोधी अभियान के साथ-साथ माओवादियों के विकास विरोधी एवं जनविरोधी चेहरे को उजागर करना अत्यंत आवश्यक है। इसी उद्देश्य से माओवादियों के विरूद्ध प्रति प्रचार युद्ध (Psyops/Propaganda War) शुरू की जा रही है। 

बैनर, पोस्टर, लघु चलचित्र, ऑडियों क्लिप, नाच-गाना, गीत-संगीत एवं अन्य प्रचार-प्रसार के माध्यम से माओवादियों के काले कारनामों को उजागर किया जायेगा। यह अभियान स्थानीय गोंडी भाषा में ‘बस्तर त माटा’ एवं हल्बी भाषा में ‘बस्तर चो आवाज’ के नाम से प्रारंभ किया जा रहा है। इस अभियान के माध्यम से बस्तरवासियों के विचारों को बाहर के दुनिया तक पहुंचाया जाएगा। 

पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज ने कहा कि इस अभियान के माध्यम से स्थानीय नक्सल मिलिशिया कैडर्स एवं नक्सल सहयोगियों को हिंसा त्यागकर समाज की मुख्यधारा में शामिल होने के लिए आत्मसमर्पण हेतु प्रेरित करेगा।

Comments   

0 #2 Chau 2020-09-16 22:27
Hello! I could have sworn I've visited this blog before but after browsing through a few of the
posts I realized it's new to me. Anyhow, I'm certainly
pleased I discovered it and I'll be bookmarking it and checking back
regularly!
Quote
0 #1 Marguerite 2020-09-16 16:38
My brother suggested I may like this website. He was totally right.
This post actually made my day. You can not consider simply how so much time I had spent for this info!

Thank you!
Quote

Add comment


Security code
Refresh