Train

जनशताब्दी व कार में टक्कर, हादसे में 4 लोगों की मौत, कई गंभीर रूप से घायल

पटनाः बिहार में शनिवार की सुबह एक बड़ा ट्रेन हादसा हुआ। पटना-रांची जनशताब्दी स्पेशल ट्रेन और अवैध रूप से क्रासिंग पार कर रही कार के बीच टक्कर में चार लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। मृतकों में तीन की पहचान हो गई है। गंभीर रूप से घायलों को इलाज के लिए पटना मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। मामले की जांच-पड़ताल की जा रही है।

Cart

महिला की हत्या, पोस्टमार्टम के बाद, शव ठेले पर ले जाने को मजबूर

पटनाः बिहार के नालंदा जिले में एक दिल दहलाने वाली घटना हुई। दरअसल हुआ यूं कि एम्बुलेंस कर्मियों की हड़ताल की वजह से महिला के शव को उसके परिजनों को ठेले पर ले जाने के लिए मजबूर होना पड़ा। वैसे आपको बता दें कि बिहार में इस तरह की घटनाएं आम हैं। अभी कुछ ही दिन पहले इस्लामपुर जिले में एक गर्भवती महिला को खाट पर उठाकर उसके घरवाले उसको अस्पताल ले गये।

Vikas1

विकास दुबे केसः अवैध असलहों की सप्लाई बिहार से, पूछताछ में हुआ खुलासा

लखनऊः कानपुर के बीकरू गांव में रात 2 जुलाई को विकास दुबे और उसके साथियों द्वारा 8 पुलिसवालों की निर्ममता से हत्या कर दी गई। सवाल ये है कि आखिर उसके पास इतने हथियार आए कहां से कि उसने पूरी पुलिस फोर्स के ही छक्के छुड़ा दिए। पुलिस द्वारा बरामद हथियारों में कुछ हथियार लाइसेंसी थे और कुछ अवैध पाये गये हैं। इन्हीं हथियारों के बल पर उन्होंने 8 पुलिसवालों को बेरहमी से मार डाला।

Pull2

‘‘कच्चा पुल, कच्ची सरकार, ये है बिहार’’, ट्वीट की आई बाढ़

पटनाः गंडक नदी पर सतरघाट पुल का भाग कल भारी बारिश के कारण नदी में जल प्रवाह बढ़ने के बाद ढह गया। इस पुल को बनाने में लगभग 8 साल का समय लगा और जिसकी लागत करीब 263.48 करोड़ रही। इससे बिहार की जनता क्षुब्ध है और बिहार सरकार को कोस रही है। ट्वीटर पर तो मानो ट्वीट की बाढ़ ही आ गई है।

राजद के नेता तेजस्वी यादव ने व्यंग्य करते हुए ट्वीट किया, ‘‘263 करोड़ रूपये से 8 साल में बना, लेकिन मात्र 29 दिन में ढ़ह गया पुल। संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द भी नहीं बोलेंगे और ना ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे। बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है।’’

Pull1

8 साल की मेहनत, 263 करोड़ की लागत पर किसने फेरा पानी

पटनाः गोपालगंज और चंपारण जिले की सीमा पर बना सतरघाट का पुल जिसका उद्घाटन 16 जून 2020 को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़े ही तामझाम के साथ किया था और इस पुल के बड़े-बड़े फायदे गिनाये गये थे, पर ये नहीं बताया गया था कि इस पुल की मियाद सिर्फ एक महीने ही है। और अंत में ये पुल भी बाढ़ की भेंट चढ़ गया। आखिर कौन है इसका जिम्मेदार?