चीनी सेना ने अरुणाचल के पास बढ़ाई हलचल, भारतीय सेना भी हुई सतर्क

Galwan 2

ईटा नगरः लद्दाख के रेजांग ला में घुसपैठ की कोशिशे नाकाम होने के बाद चीन अब अरुणाचल प्रदेश में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पार दो स्थानों पर अपनी सेना जमा कर रहा है। इस इलाके में चीनी टुकड़ी की मूवमेंट को देखने के बाद, भारत ने भी अपने सैनिकों को लद्दाख में सीमा के पूर्वी हिस्से में अपने सैनिक तैनात कर दिए हैं। सरकारी सूत्रों ने बताया कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) ने अरुणाचल प्रदेश के आसफिला और फिशटेल-2 सेक्टरों के सामने अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है। ये इलाके भारतीय सीमा से मात्र 20 किलोमीटर की दूरी पर हैं।

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने हाल ही में एक रिपोर्ट में कहा था कि अरुणाचल में LAC पर चीनी सैनिकों की सक्रियता को देखते हुए भारतीय सेना ने यहां जवानों की और ज्यादा तैनाती कर दी है। सेना ऐसे किसी भी प्रयास का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है और इसे लेकर उसने अपनी क्षमता बढ़ाई है।

अंजाव के मुख्य सिविल अधिकारी आयुषी सूदन ने कहा कि सैन्य उपस्थिति में निश्चित रूप से वृद्धि हुई है, लेकिन जहां तक घुसपैठ की बात है, इस तरह की कोई सत्यापित रिपोर्ट नहीं है। भारतीय सेना की बटालियनें वहां तैनात थीं।

अरुणाचल प्रदेश, जिसे चीन दक्षिण तिब्बत कहता है, 1962 में भारत और चीन के बीच पूर्ण पैमाने पर सीमा युद्ध के केंद्र में था, और सुरक्षा विश्लेषकों ने चेतावनी दी है कि यह फिर से एक फ्लैश-पॉइंट बन सकता है। चीन ने यह भी कहा कि वह अरुणाचल प्रदेश को भारतीय क्षेत्र के रूप में मान्यता नहीं देता है।

इस बीच, मंगलवार को संसद में केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन ने 38,000 वर्ग किमी भारतीय भूमि पर अवैध कब्जा कर रखा है और वह 90,000 वर्ग किमी को अपना बताता है, यह कहते हुए कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) स्पष्ट रूप से चिन्हित नहीं है। उन्होंने कहा कि चीन ने मई और जून में जमीनी स्थिति को बदलने की कोशिश की थी और इसके कारण भारत ने भी जवाबी कार्रवाई की। राजनाथ ने कहा, ‘‘हमने चीन से कहा है कि इस तरह की घटनाएं हमारे लिए स्वीकार्य नहीं हैं।’’

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से कुछ किलोमीटर की दूरी पर चीनी सेना अपनी बनाई सड़कों पर गतिविधियां बढ़ा रही है। चीनी सैनिक पैट्रोलिंग के दौरान भारतीय इलाकों के नजदीक भी आ रहे हैं। 

ज्ञात हो कि, इससे पहले 5 सितंबर को अरुणाचल प्रदेश से कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने दावा किया था कि अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सुबनसिरी जिले के 5 लोगों का कथित तौर पर चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने अपहरण कर लिया गया है। रिपोर्ट ये मुताबिक ये पांच लोग मछली पकड़ने के दौरान सीमा भटक गए थे। इस मामले को केंद्रीय मंत्री किरन रिजिूजू ने गंभीरता से केंद्र के सामने उठाया था। हालांकि, चीन की सीमा में चले गए पांच भारतीय नागरिक अब वतन लौट आए हैं. चीनी सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश के किबितू में इन पांचों नागरिकों को भारतीय सैनिकों को सौंप दिया है।

Add comment


Security code
Refresh