चंबल नदी में नाव पलटने से 21 लोग डूबे, 7 के शव बरामद, 14 लापता

Kota Boat

नई दिल्लीः राजस्थान के कोटा जिले में खतोली के पास चंबल नदी में बुधवार को लगभग तीन दर्जन तीर्थयात्रियों को ले जा रही एक नाव के डूबने से कम से कम 21 लोगों के डूबने की आशंका है। स्थानीय प्रशासन, ग्रामीण और पुलिस दल बचाव अभियान चला रहे हैं। राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की टीम भी तुरंत मौके पर पहुंचकर बचाव कार्य में लग गई।

Video Link:

जिला कलेक्टर उज्जवल सिंह राठौड़ ने कहा कि बूंदी जिले की सीमा पर गोठड़ा कला गांव के नजदीक चंबल नदी में एक नाव आज पलट गई। इस नाव में करीब 25 से 30 लोग सवार थे। यह लोग नाव के जरिए कमलेश्वर धाम जा रहे थे। रास्ते में नाव अचानक से पलट गई। इसमें सवार महिलाएं बच्चे और कई आदमी नदी में डूब गये। 7 शवों को नदी से अब तक निकाला जा चुका है, इनमें 2 महिला और 4 पुरुष हैं।

पुलिस सूत्रों के अनुसार डूबने वाले लोगों में अधिकांश बुजुर्ग, बच्चे और महिलाएं शामिल है, जो तैरना नहीं जानते थे और गहरे पानी के चलते नदी में ही बह गए।

बता दें कि यह दुर्घटना सुबह करीब 9.00 बजे हुई। इस संबंध में लोक सभा स्पीकर ओम बिरला ने भी चिंता जताई है लोकसभा सचिवालय ने जिला प्रशासन से इस संबंध में संपर्क साधा और कोटा से एसडीआरएफ टीम को मौके के लिए रवाना करवाया। नाव डूबने के बाद पूरे इलाके में कोहराम मच गया। हालांकि वहां पर किसी भी तरह की कोई सुविधा मौजूद नहीं थी। इसके अलावा उन महिलाओं और बच्चों को किनारे तक लाने के लिए भी कोई व्यवस्था नहीं थी। इसके लिए प्रशासन को ही जिम्मेदार माना जा रहा है। क्योंकि इस तरह से अवैध रूप से नावों का संचालन तो किया जा रहा है, लेकिन किसी भी प्रकार हादसे से बचाव के लिए कोई उपकरण या टीम वहां पर तैनात नहीं है।

 

Add comment


Security code
Refresh