वैज्ञानिकों ने M Dwarf Stars की पहचान के लिए प्रयोगसिद्ध संबंध स्थापित किया

Graph1

नई दिल्ली: ब्रह्मांड में एक नए तरह के जीवन की खोज के क्रम में रहस्य के बादल छंट रहे हैं। वैज्ञानिकों ने एम ड्वार्फ तारों के मूलभूत मापदंडों को खोजने के लिए वर्णक्रमीय सूचकांकों के उपयोग को संभव बनाते हुए कुछ प्रयोगसिद्ध संबंध स्थापित किए हैं, जो उन तारों को संभावित रूप से आबाद रह सकने वाले के तौर पर पहचान सकते हैं।

एम ड्वार्फ सभी तारों में से सबसे नन्हें तारे हैं जिनका द्रव्यमान सूर्य के द्रव्यमान का लगभग 8 प्रतिशत से लेकर लगभग 50 प्रतिशत है। हमारी आकाशगंगा के सभी तारों में से 70% से अधिक तारे एम ड्वार्फ हैं (जिन्हें लाल बौनों के रूप में भी जाना जाता है)। संख्या के लिहाज से  समस्त तारकीय आबादी पर इन तारों का वर्चस्व है। लंबे समय से, वैज्ञानिकों ने उन्हें आबाद रह सकने वाले ग्रहों की श्रेणी में नहीं माना है।

जैसा कि नए सबूत से पता चलता है कि ग्रह प्रणालियों की घटना, विशेष रूप से 'रहने योग्य क्षेत्रों' में परिक्रमा करते पृथ्वी जैसे ग्रह, की संभावना घटते तारकीय द्रव्यमान और त्रिज्या के साथ बढ़ जाती है। एम ड्वार्फ तारे अपनी निकटता, छोटे आकार और कम द्रव्यमान के कारण संभावित रह सकने वाले अतिरिक्त -ग्रह खोजों के आकर्षक लक्ष्य बन रहे हैं। नासा के केपलर मिशन का मानना है कि एम ड्वार्फ तारों का चट्टानी ग्रहों के साथ झुंड में रहने की वजह से इन कम-द्रव्यमान वाले तारों की प्रकृति का निर्धारण महत्वपूर्ण हो गया है।

एस.एन. बोस नेशनल सेंटर फॉर बेसिक साइंसेज (एसएनबीएनसीबीएस), जोकि भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के तहत एक स्वायत्त संस्थान है, के वैज्ञानिकों की एक टीम ने डॉ.सौमेन मंडल (एसएनबीएनसीबीएस में संकाय) के नेतृत्व में उनके सहयोगियों श्री धृमाद्रिखाता (एसएनबीएनसीबीएस में पीएचडी छात्र), डॉ.रामकृष्ण दास (एसएनबीएनसीबीएस में संकाय), डॉ. सुप्रियो घोष (अब टीआईएफआर में पोस्टडॉक्टरल फेलो) और श्री सम्राट घोष (एसएनबीएनसीबीएस में पीएचडी छात्र))के साथ एक चट्टानी अतिरिक्त-सौर ग्रह वाले मेजबानों के प्रकृति के निर्धारण के लिए एम ड्वार्फ तारों के मूलभूत मापदंडों को खोजने के लिए नए विश्वसनीय प्रयोगसिद्ध संबंध स्थापित किए हैं। वर्तमान शोध कार्य के निष्कर्षों को हाल ही में 'मंथली नोटिसेज ऑफ़ रॉयल ​​एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी'  नाम की पत्रिका में प्रकाशित किया गया।

भारत के हानले में स्थित 2-एम हिमालयन चंद्र टेलीस्कोप (एचसीटी) पर टीआईएफआर नियर-इन्फ्रारेड (एनआईआर) स्पेक्ट्रोमीटर और इमेजर (टीआईआरएसपीईसी) उपकरण का उपयोग कर कुल 53 एम ड्वार्फ तारों का अध्ययन किया गया। एनआईआर तरंगदैर्ध्य को कवर करने वाले एम - प्रकार के बौने तारों (एम0वी – एम7वी) का एक नया मध्यम रिज़ॉल्यूशन वाला वर्णक्रम निकाला गया। प्रभावी तापमान (टेफ़), त्रिज्या, और निकट के उज्ज्वल अंशांकन तारों की चमक का उपयोग करके, टीम ने उन मूलभूत मापदंडों और एम ड्वार्फ तारों के वर्णक्रमीय सूचकांकों के बीच नए प्रयोगसिद्ध संबंध बनाए हैं।

एम ड्वार्फ तारों में तारकीय मापदंडों का निर्धारण एक चुनौतीपूर्ण कार्य रहा है क्योंकि ये एम ड्वार्फ तारे सूर्य जैसे तारों की तुलना में छोटे, अपेक्षाकृत ठंडे और धुंधले होते हैं। ये नए प्रयोगसिद्ध संबंध इस चुनौती को पार करने में मदद कर सकते हैं।

Comments   

0 #10 it 2020-11-30 07:48
It's appropriate time to make a few plans for
the future and it is time to be happy. I've learn this post
and if I could I wish to suggest you some interesting things
or advice. Maybe you could write next articles regarding this article.
I wish to learn more issues about it!
Quote
0 #9 desktop 2020-11-29 06:10
Good day! Do you know if they make any plugins to help with Search Engine Optimization? I'm
trying to get my blog to rank for some targeted
keywords but I'm not seeing very good results.
If you know of any please share. Appreciate it!
Quote
0 #8 minimal life 2020-11-24 06:31
What's up to every one, the contents existing at this
web site are in fact amazing for people experience, well, keep up the good work fellows.
Quote
0 #7 laptop repair 2020-11-23 19:25
Hi there, I check your new stuff on a regular basis.

Your writing style is awesome, keep doing what you're doing!
Quote
0 #6 happy life 2020-11-23 18:09
It's very straightforward to find out any topic on web as compared to books, as I found this paragraph at
this web page.
Quote
0 #5 sposób życia 2020-11-23 08:28
Its like you read my mind! You seem to know so much about this, like you wrote the book in it or something.
I think that you can do with a few pics to drive the message home a bit, but instead of that, this
is magnificent blog. A great read. I will certainly be back.
Quote
0 #4 bieganie 2020-11-23 00:48
whoah this blog is excellent i really like reading your posts.
Keep up the great work! You know, a lot of people are hunting around for this information, you can help them
greatly.
Quote
0 #3 laptop repair 2020-11-22 19:29
I was curious if you ever considered changing the page layout of your site?
Its very well written; I love what youve got to say. But maybe you could a little
more in the way of content so people could connect
with it better. Youve got an awful lot of text for only having
one or 2 images. Maybe you could space it out better?
Quote
0 #2 sport 2020-11-22 17:44
Whats up this is kind of of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have
to manually code with HTML. I'm starting a blog soon but have no coding expertise so I wanted to get
guidance from someone with experience. Any help would
be enormously appreciated!
Quote
0 #1 pc repair 2020-11-22 01:21
I know this website provides quality depending posts and other stuff, is there any
other web page which provides these kinds of things in quality?
Quote

Add comment


Security code
Refresh