LAC पर पकड़े गए चीनी सैनिक को भारत ने वापस चीन को सौंपा

Ch

नई दिल्ली: भारत और चीन का सीमावर्ती क्षेत्रों में संघर्ष जारी है। ऐसे में एक चीनी सैनिक LAC पर लद्दाख के डेमचॉक इलाके में भटकता हुआ पहुंच गया था, जिसे भारतीय सेना ने धर लिया था। यह सैनिक चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी में कॉरपोरल के पद पर तैनात है। इसके बाद चीन ने भारत से अपने सैनिक को छोड़ जाने की गुज़ारिश की थी। भारत ने चीन को आश्वासन दिया था कि उनका सैनिक जल्द ही छोड़ दिया जाएगा। मंगलवार रात लद्दाख इलाके में पकड़े गए उस चीनी सैनिक को भारत ने चीन को लौटा दिया। मंगलवार देर रात को चुशूल मोलडो मीटिंग पॉइंट पर चीन को सौंपा गया।

बता दें कि पूर्वी लद्दाख के डेमचोक इलाके से 19 अक्टूबर को चीनी सैनिक को पकड़ा गया था। वांग भटककर वास्तविक नियंत्रण रेखा पार कर भारतीय सीमा में घुस आया था। इस दौरान भारतीय सेना ने चीनी सैनिक को ठंडे मौसम से बचाने के लिए मेडिकल मदद के साथ साथ खाना-पीना और गर्म कपड़े भी दिए थे।

चीन ने अपने लापता सैनिक को वापस करने का अनुरोध किया था, जिसके बाद भारतीय अधिकारियों ने प्रोटोकॉल के तहत सारी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद वांग को चीन को वापस सौंप दिया। बता दें कि मई महीने के पहले हफ्ते से ही भारतीय और चीनी सैनिक आमने-सामने हैं। दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है।

जून महीने में लद्दाख स्थित गलवान घाटी में दोनों सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें 20 भारतीय जवानों की जान चली गई थी। हिंसक झड़प में दर्जनों चीनी सैनिक भी हताहत हुए थे। वहीं, पैंगॉन्ग त्सो में दोनों पक्षों के बीच एक से ज्यादा बार एयर शॉट चलाने की घटनाएं भी हुई हैं। इस दौरान भारत और चीन के बीच कई बार कोर कमांडर स्तर की वार्ता भी हो चुकी है, जो लगभग हर बार नाकाम रही।

Add comment


Security code
Refresh