AICTE

AICTE ने GATE और NET परीक्षा में इस विषय को शामिल करने की दी अनुमति, जानें क्या है खास

नई दिल्लीः सीएसआईआर प्रयोगशालाओं में जेआरएफ के लिए आईआईटी, एनआईटी और अभियांत्रिकी में स्नातक अभिक्षमता परीक्षा (गेट) सहित भारतीय विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में जूनियर रिसर्च फेलोशिप (जेआरएफ) और लेक्चरशिप के लिए लोकप्रिय राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (एनईटी) के लिए प्रतिस्पर्धा करने वाले छात्र अब एक विषय के रूप में भू-स्थानिक का विकल्प चुन सकते हैं। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने इसरो के पूर्व अध्यक्ष डॉ. के. कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में राष्ट्रीय भू-स्थानिक कार्य बल रिपोर्ट 2013 की अनुशंसा पर गेट और नेट परीक्षा में भू-स्थानिक विषय को शामिल करने की स्वीकृति दे दी है।

Iit

हमारा युवा साइन्स और टेक्नोलॉजी में भारत को ग्लोबल लीडर बनाएगाः मोदी

नई दिल्ली: मुझे खुशी है कि आज मैं IIT गुवाहाटी के इस twenty second Convocation में आप सबके साथ शामिल हो रहा हूँ। वैसे तो Convocation किसी भी student की life का एक special day होता है, लेकिन इस बार जो students convocation का हिस्सा बन रहे हैं, उनके लिए ये एक अलग ही तरह का experience है। Pandemic के इस time में convocation के तौर-तरीके भी काफी बदल गए हैं, सामान्य situation होती तो मैं भी आज आपके बीच होता। लेकिन फिर भी, ये दिन, ये moment उतना ही important है, उतना ही valuable है। मैं आप सभी को, अपने सभी युवा साथियों को बहुत बहुत बधाई देता हूँ। आपके future efforts के लिए अनेक-अनेक शुभकामनायें देता हूँ।

Ramnath Kovind

ऑनलाइन शिक्षा उनके लिए सर्वाधिक फायदेमंद, जो शैक्षिक संस्थानों तक नहीं पहुंच सकते

नई दिल्ली: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, शिक्षा मंत्रालय और अन्य मंत्रालयों के राष्ट्रीय महत्व वाले संस्थानों के निदेशकों के आगंतुक सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’, शिक्षा राज्य मंत्री संजय शामराव धोत्रे, उच्च शिक्षा सचिव अमित खरे, राष्ट्रीय शिक्षा नीति मसौदा समिति के अध्यक्ष डॉ. के. कस्तूरीरंगन और शिक्षा मंत्रालय, यूजीसी तथा एआईसीटीई के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

AC

कोविड महामारी के चलते NCERT ने जारी किया वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर

नई दिल्लीः कोविड-19 महामारी के चलते घरों पर ही पढ़ाई कर रहे बच्चों को अभिभावकों और शिक्षकों की मदद से अर्थ पूर्ण शैक्षिक गतिविधियों में सम्मिलित करने के उद्देश्य से एनसीईआरटी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मार्गदर्शन में पहली कक्षा से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर बनाया है। 4 हफ्तों और अगले 8 हफ्तों के लिए प्राथमिक तथा माध्यमिक कक्षाओं हेतु वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर (एएसी) पहले ही जारी किया जा चुका है। इससे पहले केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर जारी किया था। आज केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंक ने वर्चुअल माध्यम से माध्यमिक स्तर के लिए अगले 8 हफ्तों का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर जारी किया।

Child

मेघावी स्कूली बच्चों की नई खोज को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार ने उठाया कदम

नई दिल्लीः कल्पनाशील दिमाग वाले बच्चे अपनी और आस-पास की समस्याओं के नए समाधान खोज सकते हैं। सरकार इस कल्पना को विस्तार देने के लिए लगातार प्रयास कर रही है और नवाचार पिरामिड की नींव को विस्तार दिया जा रहा है, जो कि बच्चों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी को आधार बनाकर दिन-प्रतिदिन की समस्याओं के समाधान ढूंढने के लिए प्रोत्साहित करता है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) इस तरह के मौलिक विचारों का स्वागत करता है। इसके अलावा मेधावी छात्रों को जिला, राज्य, और राष्ट्रीय स्तर की प्रदर्शनी आयोजित करने के साथ-साथ सलाह प्रदान करने के लिए 10,000 रुपये की पुरस्कार राशि भी प्रदान की जाती है।