"दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना वायरस से लड़ने में हो रही लापरवाही"

Kejriwal

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के दौर में जहां लाॅकडाउन 5.0 अभी भी चल रहा है। केन्द्र सरकार ने राज्य सरकारों को बोल दिया है कि आप खुद ही अपने राज्य का फैसला करें। ऐसे में दिल्ली सरकार ने तुरंत घोषणा कर दी कि पूरी दिल्ली के बाजार खोज दिए जाएं। सारे आफिस सुचारू रूप से पहले की ही तरह खोल दिए जाएं। जबकि कोरोना के केस दिन-ब-दिन बढ़ते ही जा रहे हैं। 

ऐसे में दिल्ली सरकार के लिए राज्य को अनलाॅक करना एक बड़ी चुनौती साबित होगा। पहले केजरीवार सरकार कह रही थी कि कोरोना से निपटने के लिए उनके पास पूरा बजट है और वह दिल्ली के लोगो की पूरी सुरक्षा करेगी, लेकिन आज दिल्ली सरकार के हाथ-पांव फूल गए है। ऐसे में 'महात्मा हजारी लाल मेमोरियल ट्रस्ट' के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुज शर्मा ने दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना वायरस से लड़ने में हो रही लापरवाही को उजागर किया है। 

दिल्ली से अधिकतर प्रवासी लोग अपने राज्यों में वापस जा चुके है और जो बचे हैं वो भी जाने की तैयारी में हैं। ऐसे में दिल्ली सरकार की क्या जिम्मेदारी है। क्यों केजरीवाल सरकार दिल्ली के लोगों के लिए कुछ व्यवस्था नही कर पा रही है?

पूरी दिल्ली में कहीं भी किसी प्रकार का कोई नियम नहीं है, बस एक ही विज्ञापन चल रहा है कि 'जीना होगा कोरोना के साथ'। जब ऐसा ही था तो शुरु में क्यों बड़े-बड़े वादे किए जा रहे थे।

लाॅकडाउन खुलने के साथ ही दिल्ली सरकार ने बड़े-बड़े दावे किए थे, लेकिन आज उनकी पोल खुल गयी है। दिल्ली परिवहन की बसों में भीड़ की वजह से बहुत से लोगो में कोरोना फैल सकता है। क्यों नहीं बसों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा है। मास्क का इस्तेमाल जरूरी है, लेकिन कुछ लोग बिना मास्क के ही बस में सफल कर रहे हैं। कहीं ऐसा न हो जाए की DTC की वजह से कोरोना के केस और बढ़ जाएं और अगर ऐसा हुआ तो इसकी सारी जिम्मेदारी दिल्ली सरकार पर आ जाएगी। क्या दिल्ली सरकार स्कूल बसों ओरं प्राइवेट बसों का इस्तेमाल पब्लिक के लिए नहीं कर सकती। फिलहाल जब सोशल डिस्टेंश बनाना है तो सारे ऑफिस एक साथ क्यों खोले गए।

ऐसे में दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी है। राजधानी में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 22,132 हो गई है. पिछले 24 घंटों में 1,298 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 11 लोगों की मौत हुई है। अब दिलली में कोरोना से मरने वालों की संख्या 556 पहुंच गई है।

दिल्ली सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में 497 मरीज ठीक हुए हैं। इस तरह डिस्चार्ज या माइग्रेट करने वाले मरीजों की संख्या 9,243 पहुंच गई है। फिलहाल दिल्ली में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 12,573 है।,

Add comment


Security code
Refresh