Jio

Q2 परिणाम में रिलायंस जियो का लाभ बढ़कर 3,528 करोड़ रुपये हुआ

नई दिल्लीः Jio प्लेटफॉर्म्स की सहायक कंपनी Reliance Jio Infocomm ने सितंबर 2021 (Q2FY22) को समाप्त तिमाही के लिए 3,528 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया। Jio Platforms Reliance Industries की डिजिटल इकाई है। कंपनी ने जून 2021 को समाप्त तिमाही में 3,501 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। कम्पनी का राजस्व 17,994 करोड़ रुपये, फवफ के मुकाबले 4 प्रतिशत बढ़कर 18,735 करोड़ रुपये हो गया।

9

OPEC-plus को उपभोक्ताओं की भावनाओं पर ध्यान देना चाहिएः हरदीप सिंह पुरी

नई दिल्लीः वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों में कमी लाने की आशा के साथ, भारत ने तेल उत्पादक देशों से अपना उत्पादन बढ़ाने का अनुरोध दोहराया। वैश्विक मांग में सुधार और प्रमुख तेल निर्यातक देशों से सीमित उत्पादन द्वारा समर्थित, अगस्त के मध्य में कच्चे तेल की कीमत लगभग $ 82 प्रति बैरल है, जो अगस्त के मध्य में $ 69 प्रति बैरल से ऊपर है।

Jio

रिलायंस जियो ने नए ग्राहक जोड़ने में बनाया रिकार्ड, एयरटेल को पीछे छोड़ा

नई दिल्लीः भारतीय दूरसंचार कंपनियों एयरटेल और रिलायंस जियो ने अगस्त में ग्राहकों को जोड़ना जारी रखा जबकि वोडाफोन आइडिया ने एक बार फिर ग्राहकों में भारी कमी दर्ज की। वहीं, एयरटेल और रिलायंस जियो के नए ग्राहकों में पिछले महीने की तुलना में कमी आई है।

Fuel

कार बाइक में इस्तेमाल होने वाला पेट्रोल हवाई जहाज के ईंधन से ज्यादा महंगा

नई दिल्लीः हवाई जहाज का किराया आमतौर पर दूसरे साधनों से हमेशा महंगा रहा है। लोगों को लगता है कि प्लेन का किराया इसलिए ज्यादा है क्योंकि प्लेन का ईंधन महंगा होगा, लेकिन ऐसा नहीं है। आपको पता होना चाहिए कि आपकी कार और बाइक में इस्तेमाल होने वाला पेट्रोल हवाई जहाज के ईंधन से भी ज्यादा महंगा हो गया है। आज पेट्रोल-डीजल के दामों में ठहराव के बावजूद राजस्थान के श्रीगंगानगर में भारत का सबसे महंगा पेट्रोल 117.96 प्रति लीटर बिक रहा है। दूसरी तरफ, दिल्ली में हवाई जहाज में इस्तेमाल होने वाले एक लीटर ईंधन की कीमत महज 79 रुपये है, यानि 38.96 रुपये सस्ता।

Haffkin

फार्मा कंपनी Haffkine की कोविड-19 वैक्सीन के मई 2022 से पहले आने की संभावना नहीं

नई दिल्लीः हॉफकाइन बायो-फार्मास्युटिकल कॉरपोरेशन के अगले साल मई से पहले कोवैक्सिन का पहला बैच शुरू करने की संभावना नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बायो-सेफ्टी लेवल III लैबोरेटरी की डिटेलिंग पर काम चल रहा है और जनवरी 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है। वैक्सीन का उत्पादन अप्रैल 2022 में शुरू हो सकता है, और वैक्सीन मई 2022 तक बाजारों में उपलब्ध होने की संभावना है।