उद्धव ठाकरे ने की हिमाचल पर टिप्पणी, कंगना ने किया पलटवार

KangnaUddhav

नई दिल्लीः बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच जुबानी जंग अभी भी जारी है। महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कंगना रनौत की सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में दिए गए बयान पर टिप्पणी की। उद्धव ने रविवार को दशहरा रैली में मुम्बई को बदनाम करने के लिए ‘पीओके’ कहने पर कंगना का नाम लिए बिना टिप्पणी की। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि लोग इसे ड्रग्स का अड्डा कहकर शहर की छवि को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उन्हें पता नहीं है कि कंगना के गृह राज्य हिमाचल प्रदेश का जिक्र करते हुए कहा कि गांजा वास्तव में देश में कहां हो़ता है। उनकी इस टिप्पणी से नाराज कंगना ने ट्वीट की झड़ी ही लगा दी।

कंगना ने उद्धव ठाकरे को करारा जवाब देते हुए लिखा, ‘‘मुख्यमंत्री आप एक बहुत ही क्षुद्र व्यक्ति हैं, हिमाचल को देव भूमि कहा जाता है, यहां अधिकतम मंदिर हैं, इस राज्य में अपराध दर जीरो है, हाँ, इसकी भूमि बहुत उपजाऊ है, जहां सेब, कीवी, अनार, स्ट्रॉबेरी होता है। यहाँ कुछ भी उग सकता है।

KK1

उन्होंने लिखा, ‘‘आप एक ऐसे नेता हैं, जो एक ऐसे तामसिक, रसिक और बीमार विचारों वाले राज्य के बारे में हैं, जो भगवान शिव और मां पार्वती के निवास स्थान के साथ-साथ मार्कंड्या और मनु ऋषि जैसे कई महान संतों के साथ रहा है, पांडव ने हिमाचल के परदेश में अपने निर्वासन का बड़ा हिस्सा बिताया।’’

KR1

उन्होंने आगे लिखा, ‘‘आपको अपने मुख्यमंत्री होने पर शर्म आनी चाहिए, एक लोक सेवक होने के नाते आप छोटे झगड़ों में लिप्त हैं, अपनी शक्ति का उपयोग करते हुए अपमान, क्षति और अपमानित करने वाले लोगों से जो आपके साथ सहमत नहीं हैं, आप उस कुर्सी के लायक नहीं हैं जिसे आपने राजनीति कर हासिल किया है। वो भी गंदी राजनीति। शर्म आना चाहिए।’’

Krtw2

कंगना यहां पर ही नहीं रूकीं, उन्होंने लिखा, मैं एक काम कर रहे सीएम द्वारा इस खुले बदमाशी पर अभिभूत हूं, इसलिए पहले ट्वीट में एक टाइपो है, हिमाचल में कोई अपराध नहीं होता है, हाँ फिर से स्पष्ट करना चाहूंगी कि हमारे पास गरीब या बहुत अमीर लोग है लेकिन हिमाचल में कोई अपराध नहीं है, यह बहुत ही मासूम और दयालु लोगों कर एक आध्यात्मिक शहर है।’’

Krtw3

आपको बता दें कि सुशांत पर की गई एक टिप्पणी पर लड़ाई शुरू हुई थी। बाद में बीएमसी ने उनके ऑफिस पर कार्रवाई करते हुए उनका दफ्तर ढहा दिया था। जिसके बाद महाराष्ट्र सरकार और कंगना रनौत के बीच जुबानी जंग और भी तेज हो गई थी।