आज है साउथ के सुपरस्टार प्रभास का जन्मदिन, आइयें जानते हैं उनके बारे में

Best Bioscope Baahubali

साउथ के सुपरस्टार प्रभास आज अपना 41वां जन्मदिन मना रहे हैं। साउथ सिनेमा के बाहुबली सुपरस्टार प्रभास 23 अक्टूबर 1979 को पैदा हुए। उनका जन्म साल 1979 में चेन्नई में हुआ था। प्रभास का पूरा नाम कम ही लोग जानते हैं। उनका नाम प्रभास राजू उप्पलापति है। साउथ इंडस्ट्री में प्रभास के कई निक नेम भी हैं। कोई उन्हें ‘डार्लिंग’ तो कोई ‘यंग रेबेल स्टार’ के नाम से बुलाता है।

प्रभास ने 2002 में जयंत सी. परंजी की एक्शन-ड्रामा फिल्म ‘ईश्वर’ के साथ सिनेमा की दुनिया में कदम रखा। फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। उसके बाद प्रभास एक एक्शन हीरो के रूप में उभरे और इंडस्ट्री में अपनी जगह पक्की कर ली।

अपने पावर-पैक एक्शन सीक्वेंस और स्टंट्स के लिए जाने जाने वाले, प्रभास को एस.एस. राजामौली के निर्देशन वाली ‘बाहुबली’ में उनके प्रदर्शन के लिए व्यापक रूप से याद किया जाता है। उन्होंने फिल्म में जबरदस्त किरदार निभाया और अपनी तलवारबाजी के हुनर से दर्शकों को प्रभावित किया। सुपर स्टार के जन्मदिन पर, हम उनकी बेहतरीन फिल्मों के बारे में बात करेंगेः

बाहुबली 2 (Bahubali 2)
राजामौली द्वारा निर्देशित एक्शन-ड्रामा में प्रभास ने भारी मूर्तियां उठाते हुए, इतनी सहजता के साथ स्टंट प्रदर्शन किया कि लोगों ने दांतों तले उंगलियां दबा ली। इतना ही नहीं, फिल्म मंे युद्ध के दौरान, जिसमें प्रभास को महेंद्र बाहुबली और उनके चाचा भल्लालदेव (राणा दग्गुबाती द्वारा अभिनीत) के रूप में दिखाया गया था, ने दर्शकों को बांधे रखा। 9 मिनट के युद्ध का मुख्य आकर्षण तब था, जब बाहुबली ने अपनी माँ देवसेना द्वारा बनाई गई चिता पर भल्लालदेव को फेंका। इस फिल्म में और भी बहुत कुछ ऐसा है जो आपको बांधे रखता है।

साहो (Saho)
सुजित द्वारा लिखित और निर्देशित एक्शन थ्रिलर, जिसमें प्रभास के साथ श्रद्धा कपूर, जैकी श्रॉफ और नील नितिन मुकेश ने मुख्य भूमिकाएँ निभाईं। जब फिल्म रिलीज की गई तो इसके सांस रोक देने वाले स्टंट्स और एक्शन दृश्यों के कारण इसकी काफी चर्चा हुई। ट्रक और बाइक के दृश्य में, प्रभास, जो एक बाइक पर है और अधिकारियों द्वारा उसका पीछा किया जा रहा है, सबसे कठिन एक्शन सीन है। इस दृश्य में भारी वाहन और एक हेलीकाप्टर का भी इस्तेमाल किया गया है।

विद्रोही (Vidrohi)
प्रभास द्वारा अभिनीत ऋषि, स्टीवन और रॉबर्ट को पकड़ने के लिए एक जाल बिछाता है। ये वही लोग हैं जो उसके माता-पिता को मार डालते हैं। लेकिन ऋषि खुद तमन्नाह भाटिया के प्रेम जाल में पड़कर फंस जाता है, जिसे रॉबर्ट द्वारा अपहरण कर लिया था। अगला दृश्य रॉबर्ट के घर तक जाता है जहां ऋषि के विश्वासपात्र और तमन्नाह के हाथ बंधे हुए हैं और वो साथ बैठे दिखाई देते हैं। रॉबर्ट ऋषि के माता-पिता की हत्या करने की कहानी सुनाता है और रॉबर्ट के विश्वासपात्र को गोली मार देता है। इसके बाद ऋषि अपना अपना आपा खो देता है। बाद में, ऋषि रॉबर्ट से एक-एक करने के लिए लड़ने के लिए कहता है। और यह शुरू होती है असली लड़ाई।

छत्रपति (Chatrapati)
प्रभास और श्रेया सरन अभिनीत एक्शन-ड्रामा, विजाग में रहने वाले उजाड़े गए श्रीलंकाई लोगों के जीवन पर आधारित है। पहले दृश्य में प्रभास एक छोटे लड़के को मृत देखता है और उसका दिल टूट जाता है। फिर वह उसकी मौत का बदला लेने के लिए स्थानीय उपद्रवियों से लड़ने का फैसला किया। वह गुंडों के गैंस से लड़ता है और उनके बाॅस को मार डालता है। पूरे प्रकरण को देखने के बाद, ग्रामीणों ने उसका नाम ‘छत्रपति’ रखा।

बाहुबली: द बिगिनिंग (Bahubali: The Begining)
शिव की (प्रभास द्वारा अभिनीत) माँ को स्वामी जी द्वारा जीम शिव लिंगम को 101 बार स्नान करने के लिए कहा जाता है। वह चाहती है कि उसका बेटा पहाड़ पर चढ़ना बंद कर दे। शिवा, तब अपनी मां को ऐसा नहीं करने और उसे मदद करने के लिए मनाने की कोशिश करता है, लेकिन वह मना कर देती है। क्षण भर बाद, वह शिवलिंग को उठाता है, उसे अपने कंधे पर रखता है और उसे झरने के नीचे रखता है। संपूर्ण अनुक्रम का मुख्य आकर्षण तब है जब शिव शिवलिंग के साथ पानी में डुबकी लगाता हैं। यह फिल्म भी बहुत आकर्षक है और दर्शकों को बाधें रखती है।