कंगना की मुश्किलें बढ़ीं, बांद्रा कोर्ट ने दिया उनके खिलाफ FIR दर्ज करने का आदेश

Kangana Ranaut

मुम्बईः बाॅलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और विवादों का एक गहरा नाता सा हो गया है। एक बार फिर से वह चर्चा में आ गईं हैं। कर्नाटक में एफआईर दर्ज होने के बाद अब बांद्रा की एक मजिस्ट्रेट अदालत ने बाॅलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल के खिलाफ ट्वीट और इंटरव्यू के माध्यम से हिंदू और मुसलमानों के बीच नफरत और सांप्रदायिक तनाव पैदा करने की कोशिश के लिए एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। मुम्बई मिरर के मुताबिक, मुन्ना वराली और साहिल अशरफ सैयद नाम के याचिकाकर्ताओं ने अदालत में एक याचिका दायर की गई थी, जिसमें कंगना के ट्वीट को भड़काऊ बताते हुए उनपर एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई थी। 

मजिस्ट्रेट जयदेव घुले ने कास्टिंग डायरेक्टर और फिटनेस ट्रेनर मुन्नावाली सैय्यद की शिकायत पर आदेश पारित किया, जिन्होंने यह मांग की थी कि भारतीय दंड संहिता, 153A (विभिन्न समूहों के लिए शत्रुता को बढ़ावा देना), 295A (उनके धर्म का अपमान करके किसी भी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को अपमानित करने के लिए जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कार्य करना) और 124 ए सेडिशन की विभिन्न धाराओं के तहत कंगना पर एफआईआर दर्ज की जाए।

कर्नाटक में भी एफआईआर दर्ज

बता दें कि इससे पहले 13 अक्टूबर को कनार्टक पुलिस ने हाल में केंद्र सरकार की ओर से पारित कृषि कानूनों का विरोध करने वाले लोगों पर कंगना की टिप्पणी को लेकर उनके खिलाफ एक मामला दर्ज किया था। तुमाकुरु पुलिस ने कोर्ट के आदे पर यह मामला दर्ज किया। दरअसल, वकील रमश नायक ने हाल में ट्विटर संदेश में दिये गये कंगना के पोस्ट के खिलाफ शिकायत दर्ज कराते हुए कहा है कि इससे  उनकी भावनाएं आहत हुई और इसके लिए अभिनेत्री के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

गौरतलब है कि कंगना ने 21 सितंबर को जारी अपने ट्वीट में कहा था कि जिन लोगों ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध किया था वही लोग कृषि कानूनों का विरोध कर देश में आतंक का माहौल कायम करना चाहते हैं। तुमाकुरु न्यायालय के निदेर्श पर कंगना के खिलाफ  विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।  

Add comment


Security code
Refresh