सोनू सूद ने IAS की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए अपनी माँ के नाम से शुरू की स्कॉलरशिप

Sonusood

लॉकडाउन के दौरान अगर प्रवासियों की सहायता के लिए बाॅलीवुड से कोई नाम सामने आया है तो वो है सोनू सूद। सोनू सूद ने न केवल भारत में रह रहे प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने में मदद की बल्कि विदेशों में फंसे हुए भारतीयों को देश में लाने में भी कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी। लोगों ने सोनू सूद के कामों की खुलकर प्रशंसा की। खाड़ी देशों में फंसे हुए छात्र जब भारत पहुंचे तो उन्होंने सोनू सूद को भगवान का दर्जा ही दे दिया था। सोनू को सोशल मीडिया पर लोग प्यार भरे मैसेज भेजते ही रहते हैं। यहां तक यूनाइटेड नेशंस डेवपलमेंट प्रोग्राम (यूएनडीपी) ने भी उनके कामों की सराहना की और उन्हें स्पेशल ह्यूमेनेटेरियन एक्शन अवॉर्ड से नवाजा गया। 

बहरहाल, लाॅकडाउन खत्म हो चुका है, लेकिन सोनू लोगों की मदद करने का अपना काम निरंतर किए जा रहे हैं। उन्होंने अब भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) की तैयारी करने वाले गरीब छात्रों की मदद करने का फैसला किया है। सोनू ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट के जरिए यह जानकारी दी है। उन्होंने अपनी माँ को याद करते हुए लिखा, ‘‘मेरी माँ को गुजरे आज 13 साल हो गए। वह शिक्षा की विरासत को पीछे छोड़कर गईं हैं। आज उनकी वर्षगांठ पर, मैं प्रोफेसर सरोज सूद छात्रवृत्ति के माध्यम से अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए IAS उम्मीदवारों को उनके गोल तक पहुंचाने की प्रतिज्ञा करता हूं। आशीर्वाद मांगते हुए। मिस यू माँ।’’

Sonu

आपको बता दें कि सोनू सूद ने कुछ समय पहले एक आईएएस की तैयारी कर रहे एक छात्र की मदद भी की थी। दरअसल हुआ यूं कि सोशल मीडिया के जरिये एक यूजर ने सोनू सूद से अपनी पढ़ाई की फीस मांगी थी। छात्र ने बताया था कि वो अपनी क्लास का टॉपर है और एक आईएएस बनना चाहता है, लेकिन उसके पास फीस के पैसे नहीं हैं। प्रमाण के तौर पर उसने कुछ डाक्यूमेंट्स भी ट्वीट के साथ अटैच किए थे। अपने स्वभाव के मुताबिक सोनू ने उस छात्र को तुरंत आर्थिक मदद पहुंचा दी थी और उसके एक सफल आईएएस अफसर बनने की शुभकामनाएं भी दीं थी।

Add comment


Security code
Refresh