Jay Ho: “सुमित निझावन - एक प्रतिभावान अभिनेता एवं संजीदा इन्सान”

Jay

Neel1बोस्टन (अमेरिका): अच्छे विचारों के साथ अपनी जिंदगी को जीना और दूसरों को भी उत्साह और प्रेरणा देना ही इंसानियत का असली उद्देश्य है। मन में अच्छे विचार आएं और अपनी जिंदगी को दूसरों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनाया जाए यह हर एक के बस की बात तो नहीं है। परन्तु इस दुनिया में कुछ लोग हैं जो केवल अपनी जिन्दगी ही नहीं बल्कि औरों की जिंदगी भी उत्साह और सकारात्मकता से भर देते हैं, जिससे, राष्ट्र और विश्व का निर्माण और विकास होता है। जय कुमार (Jay Kumar) उन्हीं लोगों में से है जिन्होंने यह प्रण लिया है की “जय हो” (Jay Ho) के माध्यम से डिजिटल परिवेश द्वारा भारत (India) के और विश्व के हर बच्चे, युवा, बुजुर्ग और समाज के मन में सकारात्मक उत्साह भरेंगे और अच्छे विचारों की जागृति संचित करेंगे। 

मनुष्य जैसे विचार मन में रखता है और जिस प्रकार जीवन की आशा करता है, उसके विचारों के अनुरूप ही चलता रहता है जाता है। जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए अपने लक्ष्य को चुनें और निश्चित कर लें की मैं अपने लक्ष्य को पूरा करने में समर्थ हूँ, इस संकल्प के साथ दृढ़ आस्था और विश्वास के साथ ही कोई अपने लक्ष्य तक पहुँच सकता है। असफलता के भय को मन से निकाल कर आगे बढ़ना चाहिए। 

जय कुमार जिन्होंने ‘जय हो’ कार्यक्रम का निर्देशन व संचालन किया है और यह बहुत जल्दी डिजिटल परिवेश में आपके बीच आ रहा है। आज हम जिस सुप्रसिद्ध और प्रतिभावान हस्ती का परिचय कराएंगे उनका नाम है सुमित निझावन (Sumit Nijhavan)। सुमित  निझावन, जिन्होंने बचपन से ही अपनी मेहनत और अपने आत्मविश्वास के दम पर अपनी अभिनय क्षमता को लोगों के सामने अपने अभिनय कौशल द्वारा साबित करके दिखाया। पाठकगण बहुत जल्दी ‘जय हो’ कार्यक्रम में सुमित निझावन का साक्षात्कार इस शो के माध्यम से देखेंगे। आज हम उसी प्रतिभाशाली एवं संजीदा कलाकार के बारे में आपको बताना चाहेंगे। 

सुमित निझावन एक अच्छे व प्रतिभावान कलाकार हैं जोकि कई हिट फिल्मों में कर चुके हैं। आजकल सुमित निझावन बांद्रा, मुंबई में रहते हैं, जिन्होंने अपनी अभिनय यात्रा वर्ष 2004 से फिल्मों में अभिनय कर प्रारम्भ की। सुमित ने अपने अभिनय के  संकल्प को पूरा किया और आज मुंबई फिल्म इंडस्ट्री में अपने अभिनय द्वारा और लेखन की प्रतिभा से अपना लोहा मनवाया, उन्होंने सपने देखें और उन्हें पूरा करने के लिए संघर्ष किया और अपने सपनों को पूरा करके दिखाया और जो अब हम सबके लिए एक प्रेरणा स्रोत बने।

सुमित का जन्म उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में 1978 में हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा मेरठ से प्राप्त की और उसके पश्चात दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से उन्होंने इंटरनेशनल बिजनेस में मास्टर की डिग्री प्राप्त की। सुमित को बचपन से ही अभिनय क्षेत्र में रुचि थी और उन्होंने संकल्प लिया था कि वे भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में अपने आप को स्थापित करके रहेंगे और अपने इस सपने को पूरा करते हुए आज वो इस मुकाम पर पहुंचे हैं और आपके सामने हैं । 

उन्होंने मित्सुबिशी, विटारा, ग्लोबस और लार्सन एंड टूब्रो जैसे ब्रांडो के लिए माॅडलिंग की है। 

सुमित निझावन ने हिंदी सिनेमा में डेब्यू वर्ष 2004 में फिल्म “गर्लफ्रेंड” से किया। उनकी दूसरी फिल्म जैकी श्रॉफ के साथ “तुम हो ना” थी,  इसके बाद वह राम गोपाल वर्मा की फिल्म “आग” और “सरकार राज” में नजर आए। उन्होंने फिल्म “जन्नत 2” में एक प्रमुख किरदार सरफराज की भूमिका निभाई, जहाँ उन्होंने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। मुख्य भूमिका में वह पहली बार ‘‘माझी’’ में नजर आए, जिसके लिए फिल्म को आईबीएन लाइव सर्वश्रेष्ठ स्वतंत्र फिल्म 2013 का पुरस्कार मिला। उन्होंने “फंस गए रे ओबामा”,  “जिस्म  2”, “कॉन्ट्रैक्ट” और “भैयाजी सुपरहिट”  नामक फिल्मों में भी काम किया। उन्होंने “ढिश्कियाऊं”, “राजा नटवरलाल” और विद्या बालन स्टारर “बेगम जान” में भी सशक्त भूमिका निभाई, जहाँ उनके अभिनय को काफी सराहा गया। रानी मुखर्जी अभिनीत एक्शन थ्रिलर फिल्म “मर्दानी 2” में उनके अभिनय को आलोचकों से भरपूर समीक्षा मिली। पिछले वर्ष 2020 में उनको “लूटकेस” फिल्म में देखा गया और जिसमें उन्होंने उत्कृष्ट और अप्रत्याशित अभिनय का परिचय दिया।

सुमित निझावन एक अच्छे अभिनेता के साथ-साथ एक अच्छे स्क्रिप्ट और डायलॉग राइटर भी हैं और उनको हम आगामी फिल्मों के लिए शुभकामनाएं देते हैं। 

जय कुमार जी “जय हो” कार्यक्रम में सुमित निझावन का साक्षात्कार करने जा रहे हैं। जिसमें वह अपनी जीवन यात्रा और उससे जुड़े हुए संघर्ष के अनुभवों को आप सबके समक्ष रखेंगे, जो युवाओं के लिए और समाज के लिए प्रेरणास्रोत साबित होंगी।

सुमित में अभिनय क्षमता और अभिनय को लेकर संजीदगी कूट-कूट कर भरी हुई है। हम उनके अच्छे भविष्य की कामना करते हैं और वे अब अभिनय के क्षेत्र में और अपने लेखन कार्य द्वारा अपने नाम को बुलंदियों पर ले जाएं, इसी शुभकामनाओं के साथ, “जय हो”।

Add comment


Security code
Refresh